बिजली चोरी की तो रद्द होगा सरकारी क्वार्टर


रोहतक: प्रदेश के नवनियुक्त पुलिस महानिदेशक बीएस संधु ने पुलिस कर्मियों को चेतावनी दी कि अगर बिजली चोरी के मामले में शामिल पाए गए तो उनको आवंटित किए गए सरकारी आवास को रद्द किया जाएगा। साथ ही उनके खिलाफ कड़ी कारवाई भी की जाएगी। डीजीपी ने कहा कि सभी पुलिस अधीक्षकों को निर्देश दिए गए है कि जहां जहां पर बिजली के मीटर नहीं है, वहां पर तुंरत मीटर लगाने की प्रक्रिया शुरू की जाए। इसके अलावा डीजीपी ने यह भी बताया कि प्रदेश में नशे के कारोबार पर रोक लगाने के लिए विशेष टॉस्क फोर्स का भी किया जाएगा और प्रदेश में पुलिस कर्मियों के लिए तीन हजार नए आवास व चालीस थानों का निर्माण किया जाएगा, जिसकी प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। साथ ही डीजीपी ने यह भी जानकारी दी कि अगले साल अप्रैल माह तक 15 हजार पुलिस कर्मियों की भर्ती होगी, जबकि हाईकोर्ट पर पिछली भर्ती पर लगाई गई रोक भी हट गई है और जल्द ही आगामी प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

बुधवार को पुलिस महानिदेशक बीएस संधु रोहतक पहुंचे और पुलिस अधिकारियों की बैठक ली। बाद में पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि पुलिस कर्मियों के सरकारी आवास में बिजली चोरी के मामले सामने आए है, जिन्हें गंभीरता से लिया जा रहा है। अगर भविष्य में कोई भी पुलिस कर्मी बिजली चोरी करता पकड़ा गया तो उसके आवास का आवंटन रद्द कर दिया जाएगा। डीजीपी ने कहा कि प्रदेश के प्रत्येक थाने के बाहर मित्र कक्ष की स्थापना की जाएगी, जिसमें आमजन को अपनी छोटी मोटी शिकायते, चरित्र सत्यापन, पासपोर्ट सत्यापन के लिए थाने के अंदर जाने की जरूरत नहीं होगी। यह मित्र कक्ष पासपोर्ट सेवा केन्द्र की तर्ज पर स्थापित किए जाएंगे। प्रदेश पुलिस को आधुनिक बनाने के लिए ठोस कदम भी उठाए जा रहे है, जिसके चलते जवानों को सॉफ्ट स्कील के बारे में ट्रेनिंग दी जा रही है और अलब से साइबर थाने बनाने की प्रक्रिया भी जारी है।

डीजीपी ने कहा कि नौजवान व छात्रों को नशे से दूर रखने के लिए स्पेशल टॉस्क फोर्स का भी गठन किया जाएगा, जो नशे के कारोबारियों पर नकेल कसेगी। डीजीपी ने फिर दोहराया कि महिलाओं की सुरक्षा पुलिस की पहली प्राथमिकता है। उन्होंने अभिभावकों को भी चेताया कि अगर नाबालिग वाहन चलाते मिले तो अभिभावकों को भी समान्तर दोषी माना जाएगा और उनके खिलाफ भी कानूनी कारवाई की जाएगी। डीजीपी ने कहा कि अभिभावक अपने नाबालिग बच्चों को वाहन न दे। ट्रैफिक नियमों को लेकर पुलिस गंभीर है और ट्रैफिक नियमों का पालन न करने वालों के खिलाफ कड़ी कारवाई की जाएगी। इसके अलावा उन्होंने पुलिस अधीक्षक को एटीएम द्वारा फर्जीवाडा कर रूपए निकालने वालो के खिलाफ कारवाई करने को कहा।

पुलिस अधिकारियों की बैठक में डीजीपी ने सभी पुलिस कप्तानों को निर्देश दिए कि अनसुलझे मामलो का तुरंत निपटारा करे। बैठक में रोहतक रेंज पुलिस महानिरीक्षक नवदीप सिंह विर्क, पुलिस अधीक्षक रोहतक पंकज नैन, पुलिस अधीक्षक सोनीपत अश्विन शैनवी, पुलिस अधीक्षक भिवानी सुरेन्द्र सिंह भोरिया, पुलिस अधीक्षक दादरी सुनील दलाल व रोहतक, झज्जर, सोनीपत, दादरी व भिवानी जिला के सभी उप पुलिस अधीक्षक मौजूद थे।

– मनमोहन कथूरिया