टिकट विंडो बंद मिलने पर यात्रियों ने किया प्रदर्शन


गोहाना: गोहाना रेलवे स्टेशन पर सुबह टिकट बिक्री केंद्र पर ताला लटका मिलने से यात्रियों को परेशान होना पड़ा। ट्रेन आने तक केंद्र पर कोई कर्मचारी टिकट देने नहीं पहुंचा। यात्रियों ने इस लापरवाही पर प्रदर्शन किया और उसके बाद बिना टिकट ही ट्रेन में बैठ कर सोनीपत के लिए सवार हो गए। इससे रेलवे विभाग को हजारों रुपये का नुकसान भी हुआ। गोहाना रेलवे स्टेशन से रोहतक-पानीपत और सोनीपत-जींद रूटों के लिए रेल सेवा उपलब्ध है। क्षेत्र के सैकड़ों यात्री रोजाना सुबह रोहतक, पानीपत व सोनीपत जाते हैं। शुक्रवार सुबह भी कई यात्री स्टेशन पर पहुंच गए। यात्री टिकट लेने के लिए स्टेशन के टिकट बिक्री केंद्र पर पहुंचे। वहां यात्रियों को ताला लटका मिला। यात्री ट्रेन आने तक केंद्र के बाहर लाइनों में खड़े रहे। यात्री रोहताश अहलावत, अशोक, संदीप, जयकिशन व विजय ने बताया कि कई यात्री सुबह लगभग सात बजे स्टेशन पर पहुंच गए थे।

लगभग आठ बजे जींद से सोनीपत जाने वाले पैसेंजर ट्रेन गोहाना स्टेशन पर पहुंची। तब तक भी टिकट केंद्र पर ताला लटका रहा। यात्रियों ने टिकट न मिलने पर हंगामा किया और उसके बाद बिना टिकट ही ट्रेन में सवार हो गए। यात्रियों ने सवाल उठाया अगर वे यात्रा के दौरान बिना टिकट पकड़े गए तो इसका जिम्मेदार कौन होगा। यात्रियों ने ड्यूटी में लापरवाही बरतने वाले कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग भी की। यात्रियों ने कहा कि लापरवाही के चलते रेलवे विभाग को भी राजस्व का नुकसान हो रहा है। एक सप्ताह में दूसरी बार बंद मिला केंद्र गोहाना रेलवे स्टेशन पर 1 जून को भी सुबह से दोपहर बाद तक टिकट बिक्री केंद्र पर ताला लटका रहा था। उस दिन भी यात्रियों को मजबूरी में बिना टिकट के ही यात्रा करने पर मजबूर होना पड़ा था। शुक्रवार की सुबह भी केंद्र ताला लटका मिलने से यात्रियों को बिना टिकट यात्रा करने पर मजबूर होना पड़ा।