प्रतिबंध के बाद भी दौड़ रहे भारी वाहन


गोहाना: शहर के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों की संकरी सड़कों पर प्रतिबंद के बाद दिन के समय दौड़ रहे भारी वाहन क्षेत्र के लोगों के लिए परेशानी बन चुके है, लेकिन स्थानीय पुलिस अपनी आंखे मूंद कर बैठी हुई है। ऐसे वाहन चालकों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। जिससे क्षेत्र के लोगों में रोष है। ग्रामीण क्षेत्र में सड़कों की चौड़ाई 12 से 15 फीट है, ग्रामीण क्षेत्रों में आबादी बढऩे के साथ वाहनों की संख्या भी बढ़ रही है। अकसर इन संपर्क मार्गो पर उनकी चौड़ाई के बराबर तुड़े से भरे ट्रैक्टर-ट्राली दिन के समय चलते है तो सड़क से गुजरने वाले वाहन चालकों को रास्ता नहीं मिल पाता है और उन्हें जगह मिलने तक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। बुधवार को गंगाना से बुटाना संपर्क मार्ग पर एक साथ तुड़े से भरे तीन ट्रैक्टर-ट्राली मार्ग पर एक साथ चल रहे थे।

लगभग 5 किलोमीटर लंबे इस संपर्क मार्ग पर भारी वाहन चलने के बाद बराबर में साइड देने की कोई जगह नहीं बचती है। ऐसे में इन ट्रैक्टर-ट्रालियों के पीछे चार व दुपहिया वाहनों की लंबी लाइन लग गई। गांव गंगाना निवासी एक कार चालक ने जब अपनी कार को रोककर तुड़े से भरे ट्रैक्टर के चालक को रात में चलने की बात कहीं तो वह उसके साथ झगड़ा करने लगा। वाहन चालक सोनू, दीपक, आनंद, रविंद्र ने कहा कि पुलिस की मिलीभगत से दिन के समय भारी वाहनों को मार्ग से गुजारने का काम किया जाता है। उन्होंने कहा कि जबकि दिन के समय भारी वाहनों के चलने पर प्रतिबंद है। रात के समय मार्ग खाली होते है और उस वक्त किसी अन्य वाहन चालक को परेशानी भी नहीं होती है। इन पर दिन के समय रोक लगाई जाए।