अवैध रूप से दौड़ने वाले ऑटो बंद करने की कवायद शुरु


पलवल: जिले की सड़को पर नियमो की धज्जियां उड़ाने वाले व अवैध रुप से चलने वाले ऑटो को बंद करने कवायद शुरु हो चुकी है। क्योंकि सड़को पर अवैध रुप से चलने वाले ऑटो प्रदूषण को तो दुषित कर ही रहे है बल्कि लोगों की जिंदगी से भी खिलवाड़ कर रहे है। इस प्रकार के ऑटो में संख्या से अधिक सवारियों को ठुंस कर ले जाते आम देखा जा सकता है। इस तरह ऑटो पर नकेल कसने के लिए प्रशासन ने कमर कस ली है। आरटीए विभाग के आंकड़ो के अनुसार जिले में कुल 3 हजार 940 ऑटो ही रजिस्ट्रर्ड है बाकि सब अवैध रुप से चल रहे है। जिन पर विभाग जल्द ही नकेल कसेगा। प्रदुषण फैलाने व ऑटो व जुगाड़ वाहनो को बंद करने की तैयारी जिले में शुरु हो चुकी है।

इस प्रकार के वाहन प्रदुषण तो फैलाते ही है बल्कि सड़क हादसो को भी न्योता दे रहे है। अभियान चलाकर प्रशासन द्वारा समय-समय पर इस प्रकार के ऑटो के चालान भी किए जाते है, लेकिन चालान की राशि अदा करके चालक फिर इसी प्रकार के ढर्रे पर आ जाते है। आरटीए विभाग के रिकॉर्ड के अनुसार एक अप्रैल वर्ष 2016 से 31 मार्च वर्ष 2017 तक 2 हजार 453 चालान किए गए, जो गत वर्ष के मुताबिक 40 प्रतिशत ज्यादा किए गए है। जिनसे 3 करोड़ 89 लाख 30 हजार 500 रुपये वसुल कर सरकारी खजाने में जमा हुए।

– ओमप्रकाश गुप्ता