पेयजल किल्लत पर लगाया जाम


गुरुग्राम: बिजली और पानी को लेकर जनता पूरी तरह परेशान हो चुकी है। जनता बार-बार बिजली-पानी को लेकर शिकायत करती रहती है लेकिन अधिकारियों के सिर पर जूं तक नहीं रेंगती। विधायक हो या फिर मंत्री किसी को भी लगता है जनता से सरोकार नहीं रह गया है। कई-कई दिनों तक ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली नहीं रहती, जिस कारण पानी की समस्या भी उत्पन्न हो जाती है। लोग पानी-बिजली के लिए त्राहि-त्राहि रहे हैं। आखिर में जनता के पास एक ही रास्ता बचता है जाम लगाना। जाम लगाने के बाद कुंभकर्णी नींद सो रहे अधिकारियों की नींद टूटती और जाम खुलवाने के लिए दौड़ पड़ते हैं। ऐसा ही मामला बादशाहपुर का है। बादशाहपुर में तीन दिनों से पानी नहीं आ रहा था, लोग पानी के लिए भटक रहे थे। बार बार शिकायत करने पर नगर निगम के अधिकारियों पर जूं तक नहीं रेंग रही थी। आखिरकार तंग आकर लोगों ने बादशाहपुर रोड पर जाम लगा दिया। जाम की सूचना मिलते ही अधिकारी मौके पर आए और जाम खोलने की मिन्नतें करने लगे।

जयभगवान शर्मा, लीलू यादव व कर्ण सिंह ने बताया कि तीन दिनों से पानी नहीं आने के कारण इस गर्मी के मौसम में नहाने के लिए तरसना पड़ रहा है। बच्चे बिना नहाए ही स्कूल जा रहे हैं। घर में महिलाओं को पानी के लिए बहुत परेशानी उठानी पड़ रही है। उन्होंने कहा कि नगर निगम के अधिकारियों को कई बार शिकायत की लेकिन अधिकारी सुनने को तैयार ही नहीं है। ग्रामीणों का आरोप है कि जब अधिकारियों ने उनकी समस्या पर कोई ध्यान नहीं दिया तो उनके पास जाम लगाने का ही विकल्प बचता है। गुस्साए ग्रामीणों ने आज जमा लगा दिया और सरकार और प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। जाम लगाने में ग्रामीण महिलाओ ंने भी बढ़चढ़ कर भाग लिया। महिलाओं ने भी प्रदेश की भाजपा सरकार और प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। जाम लगने से चारों तरफ वाहनों की लंबी कतार लग गई।

– सतबीर भारद्वाज