हरियाणा सामूहिक बलात्कार मामले में के और जानकारी सामने आयी


चंडीगढ़ : हरियाणा के सोनीपत में एक दलित युवती से हुए निर्भया जैसे सामूहिक बलात्कार एवं हत्या के मामले में आज रोंगटे खड़े कर देने वाली और जानकारी सामने आयी। पीडि़त के परिवार ने आरोप लगाया कि हत्या से पहले पुलिस ने मदद के लिए उनके अनुरोध पर ध्यान नहीं दिया गया। पीडि़ता के पोस्टमार्टम से यह पता चला है कि युवती के कपाल की हड्डी के कई टुकड़े हो गए थे और ”हो सकता है कि उसके गुप्तांग में कोई धारदार चीज डाली गई हो।”

पीडि़ता का पोस्टमार्टम रोहतक स्थित पोस्ट गै्रजुएट इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल साइंसेस (पीजीआईएमएस) में किया गया। वहां के फोरेंसिक मेडिसिन विभाग के प्रमुख डा। एस के धत्तेरवाल ने कहा, ”पोस्टमार्टम से यह बात सामने आयी है कि वह एक क्रूर बलात्कार और हत्या थी।” हरियाणा पुलिस ने मुख्य आरोपी सुमित सहित दो व्यक्तियों को गिरफ्तार किया है। सुमित भी एक दलित है। हरियाणा पुलिस ने मामले की जांच के लिए एक विशेष जांच दल का गठन किया है।

पुलिस ने आज कहा कि पीडि़ता के परिवार को छह और व्यक्तियों के शामिल होने का संदेह है जिसमें से पांच मुख्य आरोपी से संबंधित हैं। इस बीच राष्ट्रीय महिला आयोग सदस्य रेखा शर्मा ने पीडि़ता के परिवार से मुलाकात की और कहा कि वह उम्मीद करती हैं कि आरोपियों को ‘निर्भया’ के हत्यारों जैसा कड़ा दंड मिलेगा।

इस बीच पीडि़ता के परिवार के लिए आज 10.5 लाख रूप्ये की वित्तीय सहायता की घोषणा की गई। 23 वर्षीय युवती चूंकि एक दलित थी राज्य कल्याण विभाग उसके परिवार को अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार रोकथाम) कानून के तहत 8.5 लाख रूपये मुहैया कराएगा। सोनीपत के उपायुक्त के। मकरंद पांडुरंग ने पीटीआई से फोन पर कहा, ”बाकी दो लाख रूपये रेड क्रॉस द्वारा दिये जाएंगे।”

– (भाषा)