मांगों को लेकर कर्मचारियों का प्रदर्शन


फरीदाबाद: हुडा जनस्वास्थ्य कर्मचारी यूनियन के सैकड़ों कर्मचारियों ने लम्बित मांगों की प्राप्ति के लिए शुक्रवार को प्रशासक हुडा के कार्यालय के सम्मुख प्रदर्शन किया। गौरतलब है कि कर्मचारी यूनियन ने प्रशासन को 23 जनू को कर्मचारियों की मांगों के समाधान बारे नोटिस जारी किया था लेकिन प्रशासनिक अधिकारियों ने यूनियन शिष्टमंडल को वार्तालाप का समय तक नहीं दिया। अधिकारियों के अडियल रवैये के विरोध में यूनियन आज तीसरे दिन भी धरने पर बैठी रही। आज के धरने को सर्व कर्मचारी संघ के मुख्य संगठन सचिव वीरेन्द्र सिंह डंगवाल ने सम्बोधित किया। उन्होंने प्रशासन पर कर्र्मचारियों की मांगों के प्रति उदासीन रूख अपनाने का आरोप लगाते हुए बताया कि यदि जायज मांगों का समाधान वार्तालाप के माध्यम से नहीं किया गया तो यूनियन आन्दोलन को तेज करेगी।

श्री डंगवाल ने हुडा प्रशासक पर वायदा खिलाफी का आरोप लगाते हुए बताया कि विगत पांच महीने को यूनियन साथ सम्पदा अधिकारी की वार्तालाप हुई थी। जिसमें 15 नवम्बर 2016 से नौकरी से हटाये गए सफाई कर्मचारियों को ड्यूटी पर वापस लेने का समझौता हुआ था, लेकिन अभी तक पुराने कर्मचारियों को काम पर नहीं लगाया गया है। उन्होंने चेतावनी दी है कि यदि समझौते को लागू नहीं किया गया तो प्रशासक का यूनियन घेराव करेगी। यूनियन के धरने की अध्यक्षता सर्कल प्रधान खुर्शीद अहमद ने की। जबकि संचालन सर्कल सचिव धर्मवीर वैष्णव ने किया। धरने को सिंचाई विभाग लिपिक एसोसिएशन के जिला सचिव हरीश नागपाल ने भी सम्बोधित किया।

उन्होंने हुडा प्रशासन पर निर्माण कार्यों में व्यापक अनियिमितताओं का आरोप लगाते हुए बताया कि सैक्टर-16ए में हुडा का विश्राम गृह है। इस रेस्ट हाऊस का दुरूपयोग किया जाता है। इसमें रात-दिन में विश्राम करने वाले आगंतुकों का कोई ब्यौरा नहीं रखा जाता है। जिसके कारण विभाग को हर महीने काफी राजस्व का नुकसान हो रहा है। धरने को उदयराम शर्मा, ओमपाल, धीरज चंदेला चेयरमैन, नंदकिशोर शर्मा, ओमप्रकाश बघेल और प्रशादीलाल ने भी सम्बोधित किया।

– राकेश देव