आरएसएस का एजेंडा जबरी थोपा जा रहा है शिक्षण संस्थानों पर


कुरुक्षेत्र: इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय चौटाला ने चेतावनी दी है कि यदि 5 अगस्त तक हरियाणा सरकार ने छात्र संघ चुनाव करवाने की घोषणा नहीं की तो इनसो प्रदेश के विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में अनिश्चितकालीन तालाबंदी करवाने से भी गुरेज नहीं करेगा। दिग्विजय चौटाला थानेसर के पुराने बस अड्डे के सामने होटल सिल्वरसैंड में आयोजित छात्रों की जिला स्तरीय बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने छात्रों से अपील की कि वे इनसो के 14वें स्थापना दिवस पर पांच अगस्त को सोनीपत में आयोजित सम्मेलन में भारी संख्या में पहुंचें। इस अवसर पर इनेलो जिला प्रधान कुलदीप सिंह मुलतानी, इनसो के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जसविंद्र खैरा, युवा इनेलो के जिला प्रधान सुनील राणा, कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय इनसो इकाई के प्रधान बबलू काजल, डॉ. मंजू जाखड़, रॉकी राणा, रजत दूहण, राजेश पायलट, सुमित, अक्षय, नरेंद्र घराड़सी, जोगध्यान, मोहित सैनी सहित अनेक छात्र व युवा नेताओं ने इस बैठक को संबोधित किया। इस जिला स्तरीय सम्मेलन में भारी संख्या में कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के छात्र छात्राओं ने भाग लिया और दिग्विजय चौटाला को इनसो के स्थापना दिवस पर पांच अगस्त को भारी संख्या में सोनीपत पहुंचने का आश्वासन दिया।

दिग्विजय चौटाला ने कहा कि हरियाणा के पड़ोसी प्रदेशों दिल्ली, पंजाब, राजस्थान, उत्तर प्रदेश इत्यादि में वहां की सरकारों ने लिंगदोह कमेटी की गाइडलाईन के अनुसार छात्र संघ चुनाव करवाए हैं, लेकिन हरियाणा सरकार ने एक वर्ष से अधिक समय हो गया, छात्र संघ चुनाव करवाने के लिए कमेटी गठित की थी, जिसकी आज तक रिपोर्ट नहीं आई। उन्होंने हरियाणा सरकार द्वारा कमेटी के गठन पर सवालिया निशान लगाते हुए कहा कि जब सुप्रीम कोर्ट ने लिंगदोह कमेटी द्वारा निर्धारित गाइडलाईन पर मोहर लगा दी है तो फिर हरियाणा सरकार चुनाव करवाने से क्यों कतरा रही है। उन्होंने कहा कि छात्र संघ चुनाव से ही देश को राजनैतिक नेतृत्व मिलता है, लेकिन हरियाणा सरकार छात्रों के नेतृत्व को उभरने नहीं दे रही। भाजपा सरकार को डर है कि कहीं छात्र नेतृत्व उभरने से भाजपा को चुनौती न मिल जाए। प्रदेश के गुप्तचर विभाग ने हरियाणा सरकार को रिपोर्ट भेजी है कि हरियाणा में छात्र संघ चुनाव करवाने पर सभी विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में इनसो भारी बहुमत से जीतेगा। इसी डर से प्रदेश सरकार छात्र संघों के चुनाव नहीं करवा रही।

– रामपाल शर्मा, पंकज अरोड़ा