स्मार्ट सिटी बन रहा है फरीदाबाद: मनोहर लाल


फरीदाबाद: मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने आज जिला अधिकारियों की बैठक लेकर जिला में चलाई जा रही योजनाओं पर प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने इस प्रगति पर संतोष जताया। अधिकारियों को सम्बोधित करते हुए श्री मनोहर लाल ने कहा कि फरीदाबाद को स्मार्ट सिटी बनाया जा रहा है और स्मार्ट सिटी का मतलब है कि यह शहर हर क्षेत्र में अग्रणी हो। सभी प्रकार की सुविधाओं तथा सेवाओं में सुधार होना चाहिए। उन्होंने कहा कि किसी भी परियोजना की पहले घोषणा होती है, फिर उसकी आधारशिला रखी जाती है और काम शुरू होता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि काम केवल ठेकेदार पर न छोड़ें बल्कि निरन्तर उसकी निगरानी करते रहें और उसको मदद करने की अपनी जिम्मेदारी को भी पूरी करें ताकि काम निर्धारित समय में पूरा हो।

उन्होंने आज जिन परियोजनाओं की आधारशिला रखी है उनका भी उल्लेख करते हुए अधिकारियों से कहा कि वे इन्हें समय पर पूरा करवायें और वे इन परियोजनाओं का उद्घाटन अपने वर्तमान कार्यकाल में ही करना चाहते हैं। बैठक में विधायक ने कहा कि सीवरेज प्रणाली डालने का कार्य 50 वर्ष के बाद किया जा रहा है, यह प्रोजैक्ट काफी बड़ा है। मुख्यमंत्री ने बाईपास पर सैक्टर.8 के नजदीक अवैध रूप से चलाये जा रहे टयूबवैलों पर शिकंजा कसने के निर्देश दिए और कहा कि यदि इन टयूबवैलों से पेयजल की आपूर्ति हो रही है तो इन्हें यमुना नदी के किनारे कहीं जगह देने की सम्भावनाओं का पता लगाया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री के आदेश पर उपायुक्त समीरपाल सरों द्वारा बिजली निगम के अधीक्षण अभियन्ता, नगर निगम मुख्य अभियन्ता, सिंचाई विभाग के दो अधिकारी, एक डीसीपीए हुडा के सम्पदा अधिकारी तथा दो एसडीएम की समिति इस कार्य के लिए गठित की गई जो चार सप्ताह में अपनी रिपोर्ट सरकार को भेजेगी।

समीक्षा के दौरान उपायुक्त समीरपाल सरों ने प्रैजन्टेशन के माध्यम से जिला की रिपार्ट प्रस्तुत की और बताया कि जिला में सक्षम योजना के तहत 80 स्नातकोत्तर युवाओं का पंजीकरण हुआ था जिनमें से 37 को कौशल विकास प्रशिक्षण के लिए भेजा गया है तथा 31 युवाओं को प्राइवेट सैक्टर में नौकरी दिलवाई गई है। बाकी पंजीकृत युवाओ ने प्राईवेट सैक्टर में नौकरी लेने से मना कर दिया। इस प्रकार जिला में सक्षम योजना के तहत युवाओं की संख्या शून्य हो गई है। मुख्यमंत्री ने सभी कर्मचारियों के बायोमिट्रिक उपस्थिति दर्ज करवाने पर जोर दिया और उपायुक्त को इसे सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। नगर निगम आयुक्त सोनल गोयल ने समीक्षा के दौरान बताया कि सितम्बर माह से निगम द्वारा दी जाने वाली सेवाएं जैसे जन्म व मृत्यु पंजीकरण, सम्पत्ति कर आदि को ऑनलाइन कर दिया जायेगा। इसके बाद मुख्यमंत्री को स्कूली बच्चों द्वारा स्वयं तैयार की गई पेंटिंग दी गईए जिसके लिए मुख्यमंत्री ने भी उन्हें पुरस्कृत किया।

– राकेश देव