चंडीगढ़: हरियाणा में किसानों को 2 व 5 हॉर्स पावर के सोलर वाटर पंप लगाने हेतु एक योजना तैयार की गई है। इस योजना के तहत कुल 3050 सोलर वाटर पंप लगाये जाएंगे। इन पंपों की स्थापना हेतु भारत सरकार द्वारा कुल 45.89 करोड़ रूपये की वित्तिय सहायता मंजूर की गई है और ये पंप किसानों को 90 प्रतिशत अनुदान पर प्रदान किये जाऐंगे। इस संबंध में जानकारी देते हुए प्रवक्ता ने बताया कि इस योजना के तहत वर्ष 2016-17 में प्रथम चरण में कुल 750 सोलर पंप जिनकी कुल कीमत लगभग 26 करोड़ रुपए है, किसानों को 90 प्रतिशत अनुदान (केंद्रीय व राज्य) पर प्रदान किये जा रहे है, जिनको किसानों के खेतों में स्थापित किये जा रहा है। वित्तिय वर्ष 2017-18 में कुल 2300 सोलर पंप जिनकी कुल कीमत लगभग 95 करोड़ रूपये है, जो कि किसानों को 90 प्रतिशत अनुदान पर उपलब्ध करवाये जाऐंगे जिसके लिए विभाग द्वारा निविदायें आमंत्रित की जा चुकी है ।

उन्होंने बताया कि वर्तमान राज्य सरकार के कार्यकाल के दौरान 17 मेगावाट क्षमता के छत आधारित ग्रीड संबंधित सोलर पावर प्लांट अनुदान पर लगाने की स्वीकृति दी जा चुकी है जिसमे से 5.50 मेगावाट क्षमता के प्लांट लगाये जा चुके है, इनमें से 2.87 मेगावाट क्षमता के लिए 62 लाभकर्ताओं को 527.60 लाख रुपए का अनुदान दिया गया है। इसके अतिरिक्त बिना अनुदान के लगभग 47 मेगावाट क्षमता के छत आधारित ग्रीड सम्बंधित सोलर पावर प्लांट हरियाणा में लगाये जा चुके है और सभी सरकारी भवनों पर सोलर प्लांट लगाने की योजना के अंतर्गत पहले चरण में 24 मेगावाट क्षमता के प्लांट लगाने की स्वीकृति मुख्य मंत्री द्वारा दी गई है। घरेलु, संस्थागत व सामाजिक संस्थानों के लिए छत आधारित ग्रीड संबंधित सोलर पावर प्लांट लगाने के लिए सर्कार द्वारा 20000 रुपए प्रति किलोवाट या कीमत का 30 प्रतिशत जो भी कम हो, अनुदान दिया जाता है और सोलर पवार प्लांट लगाने के लिए अनुदान की स्वीकृति ऑनलाइन दी जाती है।

(आहूजा)