जाट आरक्षण का मुद्दा एक बार फिर गरमाया


पानीपत: जाट आरक्षण का मुद्दा एक बार फिर हरियाणा में गरमाने लगा है। पानीपत के रजाखेडी गांव में अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति ने हरियाणा के 21 गांव का सम्मेलन किया। इस सम्मेलन में हजारों की संख्या में महिलाये व् बुजर्गों ने हिस्सा लिया। सम्मेलन का मकसद जाट समाज के बच्चों पर जो मामले दर्ज हुए थे उनको जल्दी से वापस लेने की मांग को लेकर सम्मेलन का आयोजन किया गया। जाटो एक बार फिर से लामबंद होना शुरू हो चुके हैं। जाट समाज द्वारा जगह जगह मीटिंग की जा रही है और सरकार को घेरने के लिए अगली रणनीति की तैयारी की जा रही है। जाट नेताओ का कहना है कि आज पूरे हिंदुस्तान का जाट एक हो गया है। इस सम्मेलन में जाट नेताओं ने सरकार को चेतावनी दी की अगर जल्दी से हमारे बच्चों पर चल रहे मामले वापिस नहीं लिए जाते तो हम दुबारा से सरकार के विरुद्ध लडाई लडने को तैयार हैं। पानीपत के गांव रजाखेड़ी में आज अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के बैनर तले जिले के २१ गावो का सम्मेलन का आयोजन हुआ।

इस सम्मेलन में अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के राष्ट्रीय प्रवक्ता रामभगत व् दिगी प्रदेश महासचिव निशा चौधरी ने शिरकत की। इस अवसर पर राष्ट्रीय प्रवक्ता रामभगत ने कहा की अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति जिले व् ब्लॉक स्तर पर कमेटी का गठन कर रहा हैं। इसके लिए हम ब्लॉक् स्तर पर मीटिंग का आयोजन कर रहे हैं। इन मीटिंग के जरिये हमारे समाज को मजबूत करने का प्रयास किया जा रहा हैं। उन्होंने कहा की अगर सरकार उनकी मांगों को लेकर जो ढिलाई बरतेगी तो हम जिले स्तर पर मीटिंग कर आंदोलन की तैयारियां शुरू करेंगे। रामभगत ने कहा की हमारा वास्तविक मुद्दा है जाट आंदोलन के दौरान हमारे बच्चो पर जो मुकद्दमे दर्ज हुए थे सरकार उसमे ढिलाई बरत रही है। हम इन सम्मेलनों के माध्यम से सरकार पर दबाव बनाना चाहते है। ताकि उनकी मांगे जल्दी पूरी की जा सके। यशपाल मलिक पर चंदे के गबन के आरोप पर उन्होंने कहा कि यह जिला स्तर का चंदा था। उन्होंने कहा की हरियाणा का पैसा हरियणा में ही रहेगा।

उन्होंने कहा की अगर आरक्षण मिलता तो हम इस पैसे को अपने समाज ले लोगो के लिए शिक्षा पर खर्च करते। उन्होंने कहा की कुछ खापों के व सरकार के आदमी है जो यशपाल मलिक पर आरोप लगा रहे हैं। उन्होंने कहा की हमारा मकसद पुरे देश में जाट समाज को इकठ्ठा कर मजबूत करना हैं। अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति दिगी प्रदेश की महासचिव निशा चौधरी ने कहा कि इस सम्मेलन के माध्यम से हम सरकार को चेतावनी देना चाहते है कि सरकार जिस स्पीड से दर्ज मुकदमो पर काम कर रही हैं हम उससे खुश नहीं है। सरकार ने जो वायदे किये थे वह उस पर बडी धीमी गति से काम कर रही है। हम सरकार को याद दिलाना चाहते हैं की सरकार जल्द से जल्द वायदे को पूरा करे। निशा चौधरी ने कहा की हम सरकार का धन्यवाद करते हैं की उन्होंने हमारे बच्चों को नौकरी व् मुवाअजा दिया हैं। उन्होंने कहा की हमारा परिवार बहुत बड़ा हैं। इसमें छोटे छोटे झगडे होते रहे हैं। आज पूरे देश का जाट एक हो चुका हैं। उन्होंने कहा की जो भी हमारे समाज के बीच फूट डालने की कोशिश करेगा उसको कामयाब नहीं होने देंगे।

– राकेश कुमार