विभाग के लिए मेवात में चुनौती बना टीकाकरण अभियान


पुन्हाना: टीकाकरण अभियान मेवात में स्वास्थ्य विभाग के लिए चुनौती बना हुआ है। इस बार इससे पार पाने की विभाग के पास पूरी तैयारी है। मैनपावर के साथ – साथ मस्जिदों और मदरसों में प्रचार अभियान के अलावा मौलवियों , उलेमाओं , मुफ़्ती इत्यादि की मदद से लेकर सरपंचों की मदद टीकाकरण अभियान में लेने का खाका तैयार कर लिया गया है। मेवात में टीकाकरण का आंकड़ा बेहतर नहीं है। जिसके चलते कई प्रकार की बीमारियां इस इलाके के स्वास्थ्य विभाग को नीचा दिखाती रही हैं। करीब दो माह पहले तो टीकाकरण के दौरान नपुंसकता और बांझपन फैलने की अफवाह ने तो बवाल खड़ा कर दिया था। लोगों ने इंजेक्शन विवाद के चलते सरकारी कर्मचारियों की पिटाई तक की तो टीकाकरण अभियान बीच में ही बंद करना पड़ा था।

एक बार फिर स्वास्थ्य विभाग पूरी तैयारी के साथ 0 -2 वर्ष तक के बच्चों को काली खांसी , गलघोंटू , तपेदिक , पोलियो , खसरा , टिटनेस , निमोनिया , पीलिया जैसी घातक बिमारियों से बचाने के लिए आगामी 15 मई से 22 मई तक करीब एक सप्ताह टीकाकरण अभियान चलाया जायेगा। सीएमओ डॉक्टर श्रीराम सिवाच ने बताया कि अभियान को सफल बनाने के लिए करीब 118 ए एन एम , 900 आशा कार्यकर्ता , 1100 आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के अलावा सुपरवाइजर तैनात किये जाएंगे। गांव – गांव गली – गली जाकर हर पात्र बच्चे को टीका लगाया जायेगा। इसके लिए टीम को प्रशिक्षित भी किया जा रहा है। कुल मिलाकर मेवात में टीकाकरण अभियान को सफल बनाना चुनौती तो स्वास्थ्य विभाग को भी लगता है , लेकिन इस बार पूरी तैयारी और उलेमाओं के सहयोग से नैया पार होने की उम्मीद है। स्वास्थ्य विभाग ने इस मौके पर कैलेंडर का विमोचन भी किया और इलाके के लोगों से सहयोग की अपील की।

– गुरूदत्त भारद्वाज