राहुल की मंडी रैली आज, कांग्रेस में कलह जारी, सीएम पद के लिए वीरभद्र नापसंद


मंडी (हिमाचल) : विधानसभा चुनाव से ठीक पहले हिमाचल कांग्रेस के भीतर घमासान जारी है। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी शनिवार को हिमाचल प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव से पहले पहली जनसभा को संबोधित करेंगे। उनकी रैली से पहले पार्टी की राज्य इकाई के अंदर चल रही उठापटक को आसानी से भांपा जा सकता है।

पीएम मोदी और बीजेपी लगातार सीएम वीरभद्र सिंह पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों पर निशाना साध रहे हैं, लेकिन सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी वीरभद्र सिंह को दोबारा पार्टी के सीएम पद के उम्मीदवार के तौर पर नहीं उतारना चाहते हैं। राहुल शनिवार को मंडी जिले में एक जनसभा को संबोधित करेंगे। इस जनसभा की तैयारी में ही पार्टी के अंदर खींचतान देखने को मिल रही हैराहुल की

राज्य के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह कार्यक्रम को अपनी सरकार के 5 साल के कार्यकाल की उपलब्धियों का समारोह बताने में लगे हैं। वहीं राज्य पार्टी इकाई के अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू शनिवार को मंडी में राहुल गांधी की जनसभा के लिए भीड़ जमा करने की जिम्मेदारी अपने हाथों में लेते दिखे।

वीरभद्र सिंह ने सुखविंदर से तनातनी के बीच उनके साथ मंच साझा करने से इनकार कर दिया था। हालांकि पार्टी सूत्रों का कहना है कि अब दोनों के बीच मनमुटाव दूर हो चुका है। सूत्रों के मुताबिक, “सुक्खू के पास राहुल का आशीर्वाद है। वीरभद्र के विरोध के बावजूद सुक्खू को अध्यक्ष पद पर बनाए रखा गया।”

जहां प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी वीरभद्र पर हमलावर हैं वहीं राहुल गांधी वीरभद्र को सीएम पद के लिए दोबारा पार्टी का चेहरा नहीं बनाना चाहते हैं। हालांकि इस पर अंतिम फैसला पार्टी हाईकमान ही लेगा। पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, “सीएम के खिलाफ सत्ताविरोधी लहर काम कर रही है। वह हिमाचल में वन मैन आर्मी के तौर पर उभरे हैं और राज्य के एक ताकतवर नेता हैं. लेकिन अब यह समय बदलाव का है। नए प्रतिभाशाली लोगों को भी जगह मिलनी चाहिए।”