विशेष अदालत ने की ED द्वारा वीरभद्र के फार्म हाउस की कुर्की की पुष्टि


नयी दिल्ली : एक विशेष अदालत ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के उस आदेश की पुष्टि की है जिसमें हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के फार्म हाउस की कुर्की की बात है। ईडी वीरभद्र सिंह और उनके परिवार के खिलाफ कथित धनशोधन से जुड़े मामले की जांच कर रहा है।

केंद्रीय जांच एजेंसी ने मार्च में दक्षिणी दिल्ली में महरौली के पास डेरा मंडी इलाके में यह संपथि कुर्क की थी। एजेंसी का आरोप था कि “मुखौटा कंपनियों के जरिये धनशोधन” कर यह संपथि खरीदी गयी थी। एजेंसी ने धन शोधन निरोधक अधिनियम (पीएमएलए) के प्रावधानों के तहत फार्महाउस के लिये कुर्की आदेश जारी किया था। इसमें कहा गया था कि आयकर विभाग द्वारा किये गये मूल्यांकन के मुताबिक रिकॉर्ड में जहां इसकी कीमत 6.61 करोड़ रूपये हैं वहीं इसका बाजार मूल्य 27.29 करोड़ रूपये है।

पीएमएलए के सदस्य (विधि) तुषार वी शाह ने अपने एक हालिया आदेश में कहा है कि यह संपथि ‘धन शोधन से संबंद्ध’ है। आदेश में कहा गया, “मैं, इसलिये पीएमएलए की धारा 5 की उपधारा (1) के तहत अर्जित सम्पत्तियों की कुर्की की पुष्टि करता हूं।” ईडी ने कहा कि यह फार्महाउस मेसर्स मेपल डेस्टिनेशन और ड्रीमबिल्ड प्राइवेट लिमिटेड के नाम पर है। इस फर्म में सिंह के बेटे विक्रमादित्य बड़े अंशधारक हैं और उनकी बेटी अपराजिता भी अंशधारक है। इसमें कहा गया कि दोनों का नाम फर्म के निदेशकों के तौर पर दर्ज है।