बेंगलुरु में होगा देश का पहला ‘आधार एयरपोर्ट’, फ्लाइट पकड़ने में लगेंगे सिर्फ 10 मिनट


बेंगलुरु : अब एयरपोर्ट में एंट्री के लिए आपको जगह-जगह आईडी कार्ड नहीं बल्कि सिर्फ मशीन के सामने हाथ दिखाना होगा। करीब दो महीने के पायलट प्रॉजेक्ट के बाद अगले साल मार्च में बेंगलुरु का केम्पेगोडा अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा (केआईए) देश का पहला आधार आधारित एंट्री और बायोमीट्रिक बोर्डिंग सिस्टम वाला एयरपोर्ट बनने जा रहा है।

इससे न सिर्फ यात्रियों के लिए जगह-जगह चेकपॉइंट पर आईडी और बोर्डिंग पास दिखाने का झंझट खत्म होगा बल्कि यात्रियों का समय भी बचेगा। दरअसल हवाईअड्डों की सुरक्षा बढ़ाने और यात्रियों का प्रवेश आसान करने के लिए अब आधार आधारित एंट्री को बढ़ावा दिया जा रहा है। इसके तहत बेंगलुरु का केआईए पहला हवाईअड्डा होगा। फिलहाल यहां पायलट प्रॉजेक्ट जारी है।

बेंगलुरु इंटरनैशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (बीआईएएल) द्वारा भेजे गए प्रस्ताव के अनुसार, जहां मार्च तक एंट्री पर आधार और बायोमीट्रिक सिस्टम लागू किया जाएगा वहीं दिसंबर 2018 तक एयरपोर्ट को पूरी तरह आधार आधारित चालित किए जाने की संभावना है।

बीआईएएल के अनुसार, एयरपोर्ट में जगह-जगह चेकपॉइंट में एक यात्री पर करीब 25 मिनट का समय व्यर्थ होता है लेकिन आधार आधारित सिस्टम के बाद अब यह प्रक्रिया 10 मिनट में ही पूरी हो जाएगी। यानी बोर्डिंग गेट से पहले प्रत्येक चेंकपॉइंट में अब सिर्फ पांच सेकंड में ही वेरिफिकेशन हो जाएगा। साथ ही अब अधिक से अधिक यात्री एक ही गेट से प्रवेश ले सकेंगे और प्रवाह भी बना रहेगा।

बीआईएएल के एग्जिक्युटिव डायरेक्टर और प्रेजिडेंट हरि मरार कहते हैं कि इस प्रक्रिया से अब वेरिफिकेशन में आसानी होगी और सुरक्षा को भी मजबूती मिलेगी। जल्द ही केवल बायोमीट्रिक के इस्तेमाल से ही वेरिफिकेशन के जरिए यात्रियों के प्रवाह को आसान बनाया जाएगा। मरार का कहना है कि जिस तरह एयरपोर्ट में यात्रियों की संख्या में इजाफा हो रहा है, यहां इस सिस्टम के जल्द से जल्द लगने की जरूरत है।

बीते 3 अक्टूबर को बीआईएएल द्वारा जारी किए गए प्रस्ताव के अनुसार, ‘बीआईएएल ने इस नए सिस्टम को लगाने के लिए 325 दिनों की डेडलाइन तय की है। मार्च 2018 तक एयरपोर्ट में आधार आधारित एंट्री को लाइव कर दिया जाएगा। फिर अगले चरण में 90 दिनों के अंदर सभी डोमेस्टिक एयरलाइंस के लिए यह प्रक्रिया लागू की जाएगी। फिर चार अक्टूबर 2018 तक इंटरनैशनल एयरलाइंस में भी आधार आधारित सिस्टम लागू होगा और 31 दिसंबर 2018 तक पूरे एयरपोर्ट में आधार प्रक्रिया चालित होगा।