दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने गूगल को पत्र लिखकर उस ईमेल एड्रेस का ब्यौरा मांगा है जिससे सीबीएसई अध्यक्ष को10 वीं कक्षा के गणित विषय का प्रश्नपत्र लीक होने के बारे में मेल किया गया था।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि बोर्ड की अध्यक्ष अनीता करवाल के पास यह मेल गणित की परीक्षा से एक दिन पहले27 मार्च को आया था। दिल्ली पुलिस ने गूगल को पत्र लिखकर कहा है कि वह उस ईमेल एड्रेस का ब्यौरा प्रदान करे जिससे सीबीएसई अध्यक्ष को 10 वीं कक्षा के गणित विषय का प्रश्नपत्र लीक होने के बारे में मेल किया गया था।

उन्होंने कहा कि ईमेल में हस्तलिखित 12 पृष्ठों के प्रश्नपत्रों की तस्वीरें थीं। इन तस्वीरों को व्हाट्सऐप समूहों में पोस्ट किया गया था। दिल्ली पुलिस ने 27 और 28 मार्च को अलग अलग मामले दर्ज किए।

सीबीएसई के क्षेत्रीय निदेशक ने 12 वीं कक्षा के अर्थशास्त्र का प्रश्नपत्र और 10 वीं कक्षा के गणित का प्रश्नपत्र लीक होने के बारे में शिकायत की थी। मेल भेजने वाले ने कहा था कि गणित का प्रश्नपत्र व्हाट्सऐप पर लीक हुआ और इस प्रश्नपत्र की परीक्षा रद्द होनी चाहिए। अर्थशास्त्र विषय की परीक्षा26 मार्च और गणित विषय की परीक्षा28 मार्च को हुई थी।

जांच से जुड़े एक अधिकारी ने बताया, ‘‘ ये प्रश्नपत्र 50-60 सदस्यों वाले 10 व्हाट्सऐप समूहों पर भेजे गए थे। इन समूहों की पहचान कर ली गई है। सीबीएसई ने अपनी शिकायत में जिन चार नंबरों का उल्लेख किया है उनका इस्तेमाल 12 वीं कक्षा के अर्थशास्त्र का प्रश्नपत्र लीक के लिए किया गया था।’’

देश और दुनिया का हाल जानने के लिए जुड़े रहे पंजाब केसरी  के साथ।