चीन के खिलाफ भारत समुद्र में उतरेगा अपनी सबसे घातक पनडुब्बी


डोकलाम मामले को लेकर चीन के साथ जारी तनातनी के बीच भारत ने चीन की ओर से दी धमकी का पलटवार करते हुए अपने सबसे घातक जंगीबेड़ा INS कलवरी को समुद्र में उतारने की तैयारी में जुट गया है। यह स्कॉर्पीन पनडुब्बी दुनिया के सबसे खतरनाक हथियारों में शुमार है, जो छुपकर दुश्मन पर हमला करने में सक्षम है।

INS कलवरी की खासियत यह है कि इसे गुप्त तरीके से वार करने में इस्तेमाल किया जा सकता है। दुश्मन को इस पनडुब्बी के आने की आहट तक नहीं मिल पाती। इसी के चलते इसका नाम समुद्री मछली शार्क मछली ‘कलवरी’ के नाम पर रखा गया है। भारतीय नौसेना काफी समय के बाद इस जंगीबेड़े को अपने बेड़े में शामिल करने जा रही है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, समुद्र के अंदर लड़ने की अपनी कमजोर होती क्षमताओं को फिर से मजबूत करने के लिए स्कॉर्पीन पनडुब्बी काफी मददगार साबित होगी। भारत ने इस तरह की 6 पनडुब्बियों का ऑर्डर दिया है और INS कलवरी उनमें से पहली है। दरअसल, भारत की 15 पनडुब्बियों के मुकाबले चीन के पास 60 पनडुब्बियां शामिल हैं।

1996 से बाद से भारत की समुद्री ताकत लगातार कमजोर हुई है। नौसेना के पास फिलहाल डीजल-इलेक्ट्रिक तकनीक वाली 13 पनडुब्बियां हैं, जो कि पुरानी हैं। एक समय भारत के पास 21 पनडुब्बियां थीं, लेकिन रिटायर होने वाली पनडुब्बियों का रिप्लेसमेंट न मिल पाने के कारण इनकी संख्या घटती गई।