कश्‍मीर के अनंतनाग जिले में आतंकी हमला, 6 पुलिस कर्मी शहीद


श्रीनगर : जम्मू कश्मीर में अनंतनाग जिले के अचाबल क्षेत्र में आतंकवादियों ने आज एक पुलिस दल पर घात लगाकर हमला किया जिसमें एक उपनिरीक्षक सहित छह पुलिसकर्मी शहीद हो गए। शहीद थाना प्रभारी की पहचान उपनिरीक्षक फिरोज के रूप में हुई है जो आतंकवादियों की अंधाधुंध गोलीबारी की चपेट में आ गए। वह पुलवामा के रहने वाले थे।

                                                                          source

उन्होंने कहा कि अन्य शहीदों में एक चालक और चार अन्य पुलिसकर्मी शामिल हैं जो अपनी जीप में नियमित ड्यूटी पर थे। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि हमले के पीछे पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन लश्कर ए तैयबा का हाथ होने का संदेह है। उसने अरवनी मुठभेड़ का बदला लेने के लिए यह हमला कराया होगा जिसमें उसके स्थानीय कमांडर जुनैद मट्टू के मारे जाने की बात कही जा रही है।

                                                                                 source

बिजबेहड़ा के अरवनी में मुठभेड़ आज सुबह शुरू हुई और इसमें सभी तीन आतंवादियों के मारे जाने की बात कही जा रही है। अभी तक कोई शव बरामद नहीं हुआ है। अधिकारियों ने कहा कि सेना क्षेत्र की तलाशी ले रही है।

                                                                                  source

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि हमले के पीछे पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन लश्कर ए तैयबा का हाथ होने का संदेह है। उसने अरवनी मुठभेड़ का बदला लेने के लिए यह हमला कराया होगा जिसमें उसके स्थानीय कमांडर जुनैद मट्टू के मारे जाने की बात कही जा रही है। बिजबेहड़ा के अरवनी में मुठभेड़ आज सुबह शुरू हुई और इसमें सभी तीन आतंवादियों के मारे जाने की बात कही जा रही है। अभी तक कोई शव बरामद नहीं हुआ है। अधिकारियों ने कहा कि सेना क्षेत्र की तलाशी ले रही है।

                                                                                  source

गुरुवार शाम आतंकवादियों ने श्रीनगर के हैदरपोरा में पुलिस गश्ती दल पर भी हमला किया था और गुरुवार को ही कुलगाम में भी आतंकियों ने पुलिस दल पर हमला किया था | इससे पहले आतंकी कई बार जम्मू कश्मीर पुलिस के जवानों को धमकी दे चुके हैं कि वो सुरक्षाबलों के आतंक विरोधी अभियान से दूर रहें |

                                                                                    Source

इसकी वजह होती है कि पुलिस के जवान स्थानीय होते हैं और उन्हें आतंकियों के हर मूवमेंट की जानकारी आसानी से मिल जाती है जो सुरक्षाबलों की कार्रवाई में काफी मददगार साबित होते हैं | वैसे हर बार अपनी जान दांव पर लगाकर पुलिस के जवान आतंक के खिलाफ कार्रवाई में आगे रहते हैं और अब तक पुलिस के हजारों जवान अपनी कुर्बानी दे चुके हैं |