बैट के हमले में दो जवान शहीद


श्रीनगर : जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा पर गश्ती दल पर पाकिस्तान की बार्डर एक्शन टीम (बैट) के हमले में दो भारतीय जवान शहीद हो गए। भारतीय सैनिकों द्वारा की गई जवाबी गोलीबारी में एक घुसपैठिया भी मारा गया। यह जानकारी एक सैन्य अधिकारी ने दी। उधर कुपवाड़ा जिला के केरन सैक्टर में घुसपैठ की कोशिश कर रहे दो आतंकी सेना ने ढेर कर दिए।

3 आतंकी मार गिराए : इससे पहले पुलवामा में लगभग सात घंटे की मुठभेड़ में लश्कर के तीन स्थानीय आतंकियों को मार गिराया गया। मुठभेड़ में आतंकी ठिकाना बना एक मकान भी तबाह हो गया। मुठभेड़ में सेना के एक मेजर भी जख्मी हुए हैं। सुरक्षा बलों ने 30 दिन में 45 आतंकवादी मार गिराए हैं। इस तरह पिछले 24 घंटे में 5 आतंकियों को सेना ने मार गिराया है। आपरेशन के बाद मीडिया को इस बात की जानकारी देते हुए 50 राष्ट्रीय रायफल कर्नल अजीत कुमार ने कहा कि मारे गए आतंकियों में से 2 मेरे एरिया के थे। वहां करीब 12 आतंकियों की मौजूदगी थी जिनमें से दो मारे गए जबकि 10 अब भी बचे हैं। आपरेशन के दौरान पथराव हुआ लेकिन हम उनसे अच्छी तरह डील कर पाए।

                                                                                               Source

इस बीच आतंकियों की मौत के बाद पुलवामा और उसके साथ सटे इलाकों में पैदा हुए तनाव को देखते हुए प्रशासन ने धारा 144 लागू कर दी है। इस्लामिक विश्वविद्यालय साईंस एंड टैक्नोलाजी अवंतीपोर ने भी वीरवार के लिए अपनी सभी अकादमिक गतिविधियों को स्थगित कर दिया है जबकि बनिहाल-श्रीनगर रेल सेवा भी एहतियात के तौर पर बंद कर दी गई है। मारे गए आतंकियों की पहचान अगांजपोरा के इरशाद, काकपोरा के माजिद और शाकिर के रूप में हुई है। उनके पास से दो एसाल्ट राइफलें, एक पिस्तौल व कुछ ग्रेनेड मिले हैं।  गौरतलब है कि सुरक्षाबलों ने बुधवार को न्यू कालोनी काकपोरा, पुलवामा में तीन आतंकियों के छिपे होने की सूचना पर एक तलाशी अभियान चलाया था और रात साढ़े नौ बजे मुठभेड़ शुरू हुई थी। राष्ट्ररोधी तत्वों ने आतंकियों को बचाने और सुरक्षाबलों की घेराबंदी को तोडऩे के लिए पथराव भी किया था। रातभर सुरक्षाबल एक तरफ आतंकियों से लड़ते रहे और दूसरी तरफ हिंसक प्रदर्शनकारियों को बल प्रयोग कर खदेड़ते रहे।

                                                                                          Source

संबंधित अधिकारियों ने बताया कि सुबह ढाई बजे के करीब दो आतंकी मारे गए। इस दौरान उनके ठिकाने में लगी आग का फायदा उठाकर तीसरा आतंकी वहां से भाग निकला और निकटवर्ती दूसरे मकान में जा छिपा। उसे दोबारा घेरते हुए सुरक्षाबलों ने सरेंडर का फिर मौका दिया। उसने सरेंडर करने के बजाय गोलियां चलाई और जवानों ने भी जवाबी फायर कर उसे मार गिराया। आतंकियों की तरफ से अंतिम गोली सुबह चार बजे चली। इसके बाद जवानों ने मुठभेड़ स्थल की तलाशी लेते हुए तीन आतंकियों के शव बरामद किए। पुलवामा में तीन आतंकियों की मौत के बाद हिंसा पर उतारू भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस को लाठियों के साथ गोली भी चलानी पड़ी।

                                                                                            Source

इस दौरान नामी पत्थरबाज तौसीफ बट उर्फ छोटा गिलानी की गोली लगने से मौत हो गई। पांच अन्य प्रदर्शनकारी जख्मी हो गए। हिंसक झड़पों में आठ सुरक्षा कर्मियों को भी गंभीर चोटें पहुंची हैं। छोटा गिलानी अपने राष्ट्र विरोधी भाषणों और हिंसक प्रदर्शनों की अगुवाई के लिए पूरे दक्षिण कश्मीर में कुख्यात रहा है। वह पुलिस को कई राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में वांछित रहा है।  मारे गए आतंकियों को दफनाए जाने के बाद काकपोरा में हिंसा भड़क उठी। हिंसा पर उतारू भीड़ ने पुलिस व अर्धसैनिक बलों पर पथराव करते हुए सार्वजनिक संपत्ति को भी नुक्सान पहुंचाना शुरू कर दिया। उन्होंने सुरक्षाबलों के वाहनों और बंकरों को कथित तौर पर आग लगाने का प्रयास किया। हालात पर काबू पाने के लिए पुलिस को गोली चलानी पड़ी।