जम्मू बार एसोसिएशन ने गिलानी के वकील को किया निष्कासित


बार एसोसिएशन ऑफ जम्मू (BAJ) ने अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी से जुड़े वकील देवेंद्र सिंह बहल को आज निष्कासित कर दिय। बहल को एनआईए ने आतंकवाद को विथीय मदद देने के मामले में गिरफ्तार किया गया था जिसके बाद बीएजे ने यह कदम उठाया।

बीएजे के अध्यक्ष बी एस सलाथिया ने कहा कि हमें जैसे ही उनकी (बहल) गतिविधियों के बारे में पता चला, हमने हमारे रिकॉर्ड की जांच की और उन्हें एसोसिएशन की प्राथमिक सदस्यता से कोई नोटिस दिए बिना तत्काल निष्कासित करने का निर्णय लिया।

उन्होंने कहा कि हमारा एसोसिएशन राष्ट्रवादी है और हम किसी भी राष्ट्र विरोधी तत्व की मौजूदगी को बर्दाश्त नहीं करेंगे, भले ही वह र्हुियत से जुड़ा हो या किसी अन्य समूह से।  राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने आतंकवाद को विथीय मदद मुहैया कराने के मामले में अपनी जांच का दायरा बढ़ाते हुए बहल के आवास और उसके कार्यालय पर 30 जुलाई को छापा मारा था। यह छापा अलगाववादियों को उनके पाकिस्तान स्थित आकाओं की ओर से फंड मुहैया कराने में बहल की कथित भूमिका के चलते मारा गया।

गिलानी की अध्यक्षता वाले तहरीक ए र्हुियत के घटक जम्मू कश्मीर सोशल पीस फोरम के अध्यक्ष बहल को गिरफ्तार किए जाने के बाद पिछले साल घाटी में अशांति के दौरान उनके कई भाषण सोशल मीडिया पर वायरल हो गए थे। इन भाषणों में वह भारत विरोधी नारे लगाते
सुनाई दे रहे हैं।

सलाथिया ने कहा कि बहल को दो वरिष्ठ वकीलों की सिफारिश पर वर्ष 2013 में बीएजे का सदस्य बनाया गया था। उन्होंने कहा कि बहल के समुदाय से संबंधित एसोसिएशन के कुछ सदस्यों ने भी उनकी गतिविधियों का विरोध किया है और उनके निष्कासन की सिफारिश की है।

सलाथिया ने कहा कि उन्हें निष्कासित करने का निर्णय सर्वसम्मति से लिया गया और इसका लक्ष्य यह स्पष्ट संदेश भेजना था कि हम किसी राष्ट्र विरोधी गतिविधि को बर्दाश्त नहीं करेंगे।  बीएजे के प्रमुख ने वरिष्ठ वकीलों को यह सलाह दी कि वे एसोसिएशन की सदस्यता पाने की इच्छा रखने वालों की सिफारिश करने से पहले उनकी साख की पुष्टि करें और उन्होंने जोर देकर कहा कि संस्था के रुख को कमजोर बनाने के लिए राष्ट्र विरोधी तत्वों को घुसाने का षड्यंत्र रचा जा रहा है।