कर्नाटक का सियासी संग्राम अभी पूरा खत्म नहीं हुआ है। आज कर्नाटक विधानसभा में जेडीएस और कांग्रेस सरकार के लिए काफी बड़ा दिन है।  एचडी कुमारस्वामी ने मुख्चमंत्री पद की शपथ तो ले ली है लेकिन उनकी असली परीक्षा आज (शुक्रवार)  दोपहर दो बजे होगी जब उन्हें विधानसभा में फ्लोर टेस्ट पास करना है।  इससे पहले कांग्रेस को एक बड़ी राहत मिली है। स्पीकर पद के लिए बीजेपी ने अपने उम्मीदवार का नाम वापस ले लिया उसके बाद कांग्रेस के रमेश कुमार निविर्रोध विधानसभा के स्पीकर चुन लिए गए। बीजेपी के कैंडिडेट के उतरने से फ्लोर टेस्ट से पहले स्पीकर चुनाव में भी जोरआजमाइश की अटकलें लगाई जा रही थीं लेकिन बीजेपी ने अपना कैंडिडेट हटा लिया और कांग्रेस का रास्ता साफ हो गया।

दूसरी तरफ जेडीएस और कांग्रेस फ्लोर टेस्ट से पहले अपने विधायकों को लेकर कोई रिस्क नहीं लेना चाहते हैं इसलिए दोनों पार्टियों ने अभी तक अपने विधायकों को अभी तक रिज़ॉर्ट में ही रखा है। पिछले शनिवार को दो दिन के कार्यकाल के बाद येदियुरप्पा ने इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद राज्यपाल ने कांग्रेस-जेडीएस के गठबंधन को सरकार बनाने का न्योता दिया। कुमारस्वामी ने बुधवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण में कांग्रेस, सपा, बसपा, टीएमसी, टीडीपी, टीआरएस और आप जैसी पार्टियों के अध्यक्ष शामिल हुए और सभी ने बीजेपी के खिलाफ एकजुट विपक्ष की एक मजबूत तस्वीर पेश करने की कोशिश की।

इससे पहले येदुरप्पा सरकार ने सदन में बहुमत साबित करने से पहले ही इस्तीफा दे दिया था, जिसके बाद जेडीएस और कांग्रेस ने मिलकर सरकार बनाई और एचडी कुमारस्वामी ने प्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली थी।

सीएम के फ्लोर टेस्ट से पहले स्पीकर के चुनाव के कारण कांग्रेस-जेडीएस सरकार को दोहरे शक्ति परीक्षण से गुजरना होगा। कांग्रेस-जेडीएस की ओर से पूर्व स्पीकर और स्वास्थ्य मंत्री के.आर. रमेश उम्मीदवार हैं, अब बीजेपी की ओर से पूर्व कानून मंत्री एस. सुरेश कुमार मैदान में आ गए हैं।

Live updates : –
  • क़ांग्रेस के रमेश कुमार स्पीकर चुने गए
  • बीजेपी ने स्पीकर पद के लिए अपना कैंडिडेट  हटा लिया
  • मुझे कोई टेंशन नहीं है। मैं जीतने वाला हूं: कर्नाटक के सीएम कुमारस्वामी
  • बुधवार को सीएम पद की शपथ लेने के बाद कुमारस्वामी ने मीडिया से कहा था, ‘हमारा इकलौता लक्ष्य एक आदर्श गठबंधन बनाना है। मेरे कार्यकाल और सरकार गठन से जुड़ी दूसरी जरूरतों पर हम लोगों के बीच अभी बात नहीं हुई है।’ अपने कार्यकाल के दूसरे दिन डेप्युटी सीएम जी परमेश्वर के बयान से वह कितने खुश होंगे यह भी देखने वाली बात है।
  • गुरुवार को डेप्युटी सीएम जी परमेश्वर ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने पूरे पांच साल तक के कार्यकाल के लिए बतौर सीएम एचडी कुमारस्वामी का समर्थन करने पर अब तक कोई फैसला नहीं लिया है।
  • बीजेपी की ओर से ‘ऑपरेशन कमल’ दोहराए जाने की आशंकाओं के चलते कर्नाटक में रिजॉर्ट की राजनीति की अवधि को लंबा खींच दिया गया है। विधानसभा में मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के बहुमत परीक्षण से एक दिन पहले गुरुवार को भी कांग्रेस और जेडीएस के सभी विधायक होटेल में ही हैं।
  • बहुमत हासिल करने को लेकर आश्वस्त एचडी कुमारस्वामी ने गुरुवार को जानकारी दी कि उन्होंने वित्त मंत्रालय के अधिकारियों की फ्लोर टेस्ट के बाद बैठक बुलाई है। इसमें राज्य के बजट को लेकर फैसला लिया जाएगा। मीडिया से बातचीत के दौरान सीएम कुमारस्वामी ने कहा कि जेडीएस और कांग्रेस के घोषणा पत्र में किए गए वादों को उनकी सरकार पूरा करेगी।
  • येदियुरप्पा के इस्तीफे के बाद 23 मई को एचडी कुमारस्वामी ने राज्य के 24वें मुख्यमंत्री की शपथ ली। इसके साथ ही राज्य में जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन की सरकार बनी।
  • येदियुरप्पा बहुमत साबित करने में नाकाम रहे और फ्लोर टेस्ट से पहले ही इस्तीफा दे दिया था।
  • बता दें कि हाल ही में संपन्न हुए चुनाव के बाद बीजेपी 104 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी। हालांकि वह बहुमत से 8 सीटों के अंतर से पीछे रह गई। वहीं, कांग्रेस और जेडीएस ने चुनाव के बाद गठबंधन करते हुए सरकार बनाने का दावा पेश किया था। लेकिन राज्यपाल ने बीजेपी के बीएस येदियुरप्पा को पहले मौका दिया।
  • कर्नाटक में नंबर गेम पक्ष में होने की वजह से सीएम एचडी कुमारस्वामी की राह आसान मानी जा रही है।
  • कर्नाटक की राजनीति के लिए आज का दिन काफी अहम है। शुक्रवार को दो दिन पुरानी राज्य की कांग्रेस-जनता दल सेक्युलर (जेडीएस) गठबंधन सरकार को विधानसभा में बहुमत हासिल करना है।

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ।