स्कूलों की व्यवस्थाएं न सुधरने पर कार्यवाही


विदिशा : जिले के शासकीय स्कूलों की हालत सबसे खराब है, वह समय पर न तो खुलते हैै न ही बंद होते हैं, जांच के दौरान शिक्षक स्कूलों में नहीं पाए जाते तो कहीं स्कूल समय पूर्व बंद पाए जाते हैैं, तीन दिन का समय दे रहा हूं, अगर व्यवस्थाएं नहीं सुधरी तो संबंधित के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। यह बात कलैक्टर अनिल सुचारी ने डाइट परिसर में आयोजित जिलेभर के बीआरसी व सीआरसी और जन शिक्षकों के बैठक के दौरान उन्होंने डीईओ से कहा कि शिक्षक हर हाल में सबा 10 बजे तक स्कूल पहुंचे और तय समय तक पढ़ाई प्रारंभ कर दे। अधूरे पड़े भवनों को लेकर तातकालीन सरपंच व सचिवों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाए। उन्होंने कहा कि जनशिक्षक रोज तीन, चार स्कूलों का निरीक्षण करें, जिसमें मध्याह्न भोजन, स्कूलों का समय पर खुलना व बंद होना, बच्चों की पढ़ाई का स्तर साफ सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाए, लापरवाही करने वाले शिक्षक पर कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने कार्य न करने वाले जनशिक्षक और सीएसी को हटाने की चेतावनी भी दी। निरीक्षण के दौरान बंद मिले बिछिया गांव के स्कूलों के शिक्षकों को नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि बारिश के दौरान यदि कोई स्कूल खस्ता हाल हैै तो बच्चों को पढ़ाने के लिए व्यवस्था की जाए।  तो वहीं जिले में मध्यांह भोजन की एसएमएस के माध्यम से जानकारी देने के लिए जिले में शुरू हुए पायलेट प्रोजेक्ट की समय पर जानकारी न देने पर जिला पंचायत सीईओ दीपक आर्य ने बासौदा के बीआरसी कपिल तिवारी और विदिशा बीआरसी हरि नारायण लखेरा की जमकर क्लास ली।