डायमंड व रेशम की डोरियों से सजे बाजार


विदिशा: आगामी 7 अगस्त को रक्षा बंधन के त्यौहार के निकट आते ही जिलेभर में राखियों के बाजार सज गए हैं। जगह-जगह डायमंड की व रेशम की डोरियां बाजारों में मिल रही हैं। तरह-तरह के कार्टूनों वाली राखियां बच्चों द्वारा पसंद की जा रही हैं। इसी के साथ ही लाइट वाली राखी जिसे कलाई पर बांधते ही बल्ब जलते हैं, यह राखियां भी बच्चों द्वारा खूब पसंद की जा रही हैं, इसी के साथ ही बाजार में डायमंड की राखियों की भी मांग हैै, जो 200 रुपए से लेकर 500 रुपए तक की रेंज में उपलब्ध है किन्तु चीनी राखियां, बाजार से गायब हैं।

भारत और चीन की सीमा पर चल रहे तनाव के चलते व्यापारियों ने आम नागरिकों की भावना को देखते हुए चीनी राखियां खरीदने में कोई रुचि नहीं दिखाई, छोटी, बड़ी किसी भी दुकान पर चीनी राखियों का विक्रय नहीं किया जा रहा है। भारतीय परंपरा के अनुसार ही व्यापारियों ने राखियों की रेंज ग्राहकों के लिए उपलब्ध कराई है, हाथ से बनी राखियां भी बाजार में उपलब्ध हैं, इसके लिए अलग से केन्द्र में प्रशिक्षण दिया गया था और महिलाओं को प्रशिक्षकों ने राखी बनाना सिखाया था। वह राखियां भी तैयार होकर मार्केट में विक्रय के लिए उपलब्ध हंै।