कर्मचारियों को नहीं मिल पाएगा वेतन वृद्धि का लाभ


भोपाल: प्रदेश के ज्यादातर अधिकारियों- कर्मचारियों को जुलाई का वेतन सातवें वेतनमान के हिसाब से नहीं मिल पाएगा। नए वेतनमान के आदेश जारी होने में हुई देरी और कर्मचारियों के विकल्प जमा नहीं होने से अधिकांश कार्यालयों ने छठवें वेतनमान के हिसाब से ही वेतन बिल बनाकर कोषालय में लगा दिए हैं।  बताया जा रहा है कि अब अगस्त के वेतन में ही सातवां वेतनमान जुड़ पाएगा। मंत्रालय सूत्रों ने बताया कि 20 जुलाई को वित्त विभाग ने सातवें वेतनमान की अधिसूचना जारी की और इसके दो दिन बाद आदेश निकाले गए। वैसे तो प्रत्येक माह 23 तारीख से वेतन के बिल कोषालय में लगने शुरू हो जाते हैं। ऐसे में नए वेतनमान के हिसाब से बिल बनाना आसान काम नहीं था।

बताया जा रहा है कि जिन विभागाध्यक्ष कार्यालयों में कर्मचारियों की संख्या 100 से 200 के बीच हैं, वहां तो नए वेतनमान के हिसाब से वेतन की गणना कर विकल्प भरवाए जा सकते हैं, लेकिन मंत्रालय जैसी जगह, जहां तीन हजार से अधिक कर्मचारी काम करते हैं, वहां नए हिसाब से वेतन बनाना संभव नहीं है। ऐसे में त्यौहारी सीजन में वेतन न अटक जाए, इसलिए ज्यादातर कार्यालयों ने पुराने हिसाब से वेतन बिल बनाकर कोषालय में लगा दिए हैं।

इधर इस संबंध में वित्त विभाग के अधिकारियों का कहना है कि इससे कर्मचारियों का कोई नुकसान नहीं होगा। उन्हें अगस्त के वेतन में सातवें वेतनमान के हिसाब से बाकी राशि मिल जाएगी। वहीं कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर यह है कि उन्हें जुलाई के वेतन में वेतनवृद्धि जुड़कर मिलेगी। वित्त विभाग ने वेतनवृद्धि देने का निर्णय कर लिया है। ये मूलवेतन पर 3 फीसदी के आसपास बताई जा रही है।