जीएसटी है कल का भविष्य : जयंत मलैया


दमोह : मध्यप्रदेश के वित्त मंत्री जयंत मलैया ने कहा कि बस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) आज की आवश्यकता और कल का भविष्य है। श्री मलैया ने कल यहां मानस भवन में जीएसटी पर आयोजित सेमीनार को संबोधित करते हुये कहा कि देश की संघीय व्यवस्था में केन्द के साथ राज्यों के अपने अधिकार है।

                                                                                                 source

एक देश एक कर और एक बाजार व्यवस्था 1 जुलाई से लागू होगी। पहले जीएसटी पर विरोधाभास था जिसे दूर किया गया। इसके लिये जीएसटी की 18 बैठके हुई और निर्णय आम सहमति से लिये गये तथा गरीबों को राहत देने की कोशिश की गई। इस अवसर पर उन्होंने बताया कि 30 जून को दिल्ली में जीएसटी की बैठक है।

                                                                                             source

जीएसटी की शुरूआती पहल कांग्रेस सरकार ने की थी। उन्होंने कहा जीएसटी के लिये किसी तरह की शंका मन में ना पालें। इसमें 300 वस्तुओं और सेवाओं पर कर की दर समेकित रूप से कम रखी गई है। जीएसटी में व्यवसाय करने के लिये पंजीयन जरूरी है। जो व्यापारी वेट कर में रजिस्टर्ड है उनका आटोमेटिक पंजीयन होगा।