प्रदेश के पश्चिम हिस्से में भारी बारिश के आसार


भोपाल: पूर्वी राजस्थान के अलावा उत्तर-पश्चिमी मध्यप्रदेश में गहरा कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण राज्य के पश्चिमी हिस्से में आने वाले तीन स्थानों पर भारी बारिश होने की आशंका जताई गई हैं। मौसम विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिकों बताया है कि पूर्वी राजस्थान के अलावा उत्तर-पश्चिमी मध्यप्रदेश में गहरा कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। इसके कारण प्रदेश के पश्चिमी हिस्से में आने वाले मंदसौर, रतलाम और आगरमालवा के साथ ही श्योपुरकलां में अगले 24 घंटों के दौरान दूसरे स्थानों की अपेक्षा ज्यादा बारिश हो सकती है। साथ ही नीमच, मदंसौर, रतलाम और आगरमालवा में लगातार वर्षा होने की संभावना के चलते अलर्ट घोषित किया गया है।

वैज्ञानिकों ने कहा कि गहरा कम दबाव का क्षेत्र बनने के साथ ही अरब सागर से भी नमी आ रही है। ऐसा अनुमान है कि उत्तरी-पश्चिमी मध्यप्रदेश और पश्चिमी मध्यप्रदेश में 51 से 75 फीसदी क्षेत्रों में बारिश होने की उम्मीद हैं। यहां तक कि प्रदेश के चंबल और ग्वालियर संभाग के जिलों में भी बारिश होने के आसार हैं। वहीं दूसरी तरफ रीवा संभाग के जिलों के साथ ही टीकमगढ़, छतरपुर, पन्ना इन सबके उत्तरी हिस्से में कुछ स्थानों पर हल्की बारिश होने की संभावना हैं। पूर्वी मध्यप्रदेश में बारिश कम होने के कारण धूप निकलेगा।

प्रदेश के राजगढ़, आगरमालवा, उज्जैन, मंदसौर, रतलाम, झाबुआ, अलीराजपुर और गुना जिले में अनेक स्थानों पर कहीं वर्षा तो कहीं गरज चमक के साथ बौछारें पडऩे के आसार हैं। राज्य के झाबुआ जिले में पिछले 20 दिनों से लगातार कभी हल्की तो कभी भारी वर्षा हो रही है। लगातार बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। नदी नाले उफान पर बह रहे हैं। अनवरत वर्षा के चलते खेतों में पानी भर गया है और इससे फसलें गलने का खतरा बढ़ गया है। बारिश के चलते कई ग्रामीण क्षेत्रों में अब झोपडिय़ां गिरने और मकानों के क्षतिग्रस्त होने के समाचार भी मिलने लगे हैं।

प्रदेश के अधिकांश स्थानों पर आज सुबह से ही धूप खिली रही। आगरमालवा, बालाघाट, देवास, होशंगाबाद, नरङ्क्षसहपुर, पन्ना, राजगढ़, शिवपुरी और शाजापुर जिले में सुबह से लेकर शाम पांच बजे तक धूप का असर रहा। वहीं बड़वानी, ग्वालियर, मुरैना जिले में रुक-रुक कर कई बार हल्की बूंदाबांदी होने की खबर मिली हैं। राज्य में बीते 24 घंटों के दौरान भोपाल, इंदौर और उज्जैन संभाग के जिलों में मानसून प्रबल होने की वजह से अधिकांश स्थानों पर बारिश हुई।

सागर, जबलपुर और ग्वालियर संभाग के जिलों में मौसम सक्रिय रहने से अनेक स्थानों पर वर्षा हुई। इसी तरह चंबल संभाग के कुछ स्थानों पर और शेष संभाग के जिलों में कहीं-कहीं वर्षा हुई। राज्य के आलोट में 14 सेमी., आगर और नीमच में 11, जाबद में 10, मंदसौर में 9, भानपुरा में 7, सुवासरा, इछावर, मनासा, सारंग, महिदपुर, चाचोड़ में 5 सेमी. वर्षा हुई।

प्रदेश की राजधानी भोपाल और इसके आसपास दो दिन पूर्व इंद्रदेव प्रसन्न रहे। इसके चलते लगातार अच्छी बारिश हुई। सुबह से ही धूप खिली रही। यह स्थिति शाम तक बनी रही। अगले 24 घंटों के दौरान वर्षा या बौछारें पडऩे का अनुमान है।