मांगें पूरी नहीं हुईं तो 23 को होगा विधानसभा घेराव


श्योपुर, (बालकृष्ण शर्मा): राज्य अध्यापक संघ के बैनर तले रविवार को सीएम के नाम एसएलआर को सौंपे ज्ञापन में अध्यापकों ने ऐलान किया है कि यदि अध्यापकों की शिक्षा विभाग में संविलियन की मांग जल्द ही पूरी नहीं हुई तो 23 जुलाई को भोपाल में विधानसभा का घेराव किया जाएगा। राज्य अध्यापक संघ के जिलाध्यक्ष रामचरित रावत के नेतृत्व में प्रस्तुत ज्ञापन में उल्लेख किया गया है कि अध्यापक संवर्ग विगत 18-19 वर्षों से विभिन्न समस्याओं से जूझ रहे हैं, लेकिन उनको सुविधाएं प्रदान करने के बजाय कटौती की जा रही है,जिससे अध्यापक संवर्ग में आक्रोश है।

लिहाजा उनकी शिक्षा विभाग में संविलियन जैसी मांगों को पूरा किया जाए। ज्ञापन में ये रखी मांगें: अध्यापक संवर्ग का तत्काल शिक्षा विभाग में संविलियन किया जाए। शिक्षक संवर्ग की तरह जनवरी 2016 से सांतवा वेतनमान दिया जाए, अध्यापकों की बंधन रहित स्थानांत, प्रदेश में 2005 के पूर्व के अध्यापकों को पेंशन चालू की जाए। संविदा शिक्षक के पद पर अनुकंपा नियुक्ति के नियम शिथिल हों, नवीन पेंशन प्रणाली का कटोत्रा कोषालय के माध्यम से कराया जाए। वर्ष 2011 से सभी गुरुजियों को संविदा शिक्षक बनाया जाए। संतान देखभाल अवकाश पर लगाई गई रोक तत्काल वापस ली जाए,वरिष्ठ अध्यापक को राजपत्रित अधिकारी का दर्जा प्रदान किया जाए।