कमलेश्वर पटेल के खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज करने के निर्देश


जबलपुर : मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय ने कांग्रेस विधायक कमलेश्वर पटेल के खिलाफ कूट रचित दस्तावेज तैयार करने और अन्य आपराधिक धाराओं के तहत आपराधिक प्रकरण दर्ज करने के निर्देश दिए हैं। मामले में याचिकाकर्ता के वकील गिरीश श्रीवास्तव और सरकारी वकील गीतेश सिंह ठाकुर ने बताया कि आज हुई सुनवाई के दौरान अदालत ने इस बारे में निर्देश दिए। सीधी के सिंहावल से कांग्रेस विधायक श्री पटेल द्वारा हाईकोर्ट में पेश किये गये स्वास्थ्य संबंधित सर्टिफिकेट के संबंध में हाईकोर्ट ने पुलिस अधीक्षक भोपाल को जांच रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिये थे।

याचिका पर मंगलवार को हुई सुनवाई के दौरान जांच रिपोर्ट न्यायालय के न्यायाधीश अतुल श्रीधरन के समक्ष पेश की गयी। एकलपीठ ने जांच रिपोर्ट की प्रति अनावेदक व याचिकाकर्ता को देने के निर्देश देते हुए याचिका पर अगली सुनवाई आज निर्धारित की थी। यचिकाकर्ता स्वरूप नारायण द्विवेदी की तरफ से दायर चुनाव याचिका में विधायक श्री पटेल के निर्वाचन को चुनौती दी गयी थी। याचिका की सुनवाई के दौरान अनावेदक विधायक को गवाही के लिए 27 अप्रैल को हाईकोर्ट में उपस्थित होना था। अनावेदक इस तारीख को उपस्थित नहीं हुए तो हाईकोर्ट ने अगली सुनवाई 11 मई निर्धारित की।

अनावेदक के अधिवक्ता ने 11 मई को सुनवाई के दौरान बताया कि पिछली रात विधायक भोपाल स्थित उनके कार्यालय आये, कार्यालय में चक्कर आने के कारण उन्हें अक्षय नामक निजी हॉस्पिटल में भर्ती किया गया है, जिसके बाद हाईकोर्ट ने याचिका पर अगली सुनवाई 17 मई को निर्धारित की। याचिका पर 17 को हुई सुनवाई के दौरान न्यायालय को बताया गया कि विधायक 11 से 16 मई तक निजी अस्पताल में भर्ती थे तथा 17 मई को उन्हें भोपाल के एम्स रेफर किया गया।

सुनवाई में इस दौरान एक अखबार में प्रकाशित खबर का हवाला देते हुए बताया गया कि 15 मई को कांग्रेस के प्रदेश मुख्यालय में संगठनात्मक बैठक थी, जिसमें विधायक श्री पटेल सहित चार विधायक मौजूद थे। इसी दिन विधायक अलावा अनावेदक की तरफ से निजी अस्पताल का डिस्जार्च कार्ड के साथ अस्पताल में भर्ती होने का हलफनामा पेश किया गया था, जिसे गंभीरता से लेते हुए एकलपीठ ने पुलिस अधीक्षक भोपाल को निर्देशित किया कि वे उस अस्पताल का रिकॉर्ड जब्त करें और एम्स से भी दस्तावेज प्राप्त करें।

एकलपीठ ने निजी अस्पताल के और कांग्रेस में हुई बैठक के सीसीटीव्ही फुटेज प्राप्त करने और 24 घंटे में अपनी रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिए थे। इसके बाद पुलिस अधीक्षक भोपाल द्वारा पेश की गयी रिपोर्ट में अस्पताल संचालक डॉ. दीपक चतुर्वेदी के हवाले से कहा गया कि विधायक श्री पटेल 10 मई की रात उपचार के बाद घर चले गये थे। अगले दिन भी वे अस्पताल में कुछ देर आने के बाद वापस चले गए। विधायक ने 12 मई को अस्पताल आकर कमरा बुक रखे रहने की बात कही और वहां से चले गए।

इसके बाद उन्होंने 16 मई को अस्पताल से डिस्चार्ज लिया। रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि विधायक ने एम्स ओपीडी में जांच के लिए दोपहर दो बजे बाद पर्ची ली। रिपोर्ट के मुताबिक मप्र, कांग्रेस कमेटी के कार्यालय से बैठक की फुटेज नहीं मिल पाई। इस पर कांग्रेस विधायक की तरफ से एकलपीठ को बताया गया कि पार्टी की तरफ से नोटिस जारी होने के कारण वह बैठक में उपस्थित हुए थे, इस नोटिस के बारे में भी एकलपीठ ने पुलिस अधीक्षक को जांच करने के निर्देश दिए थे।

– वार्ता