किसान संदेश यात्रा: उपवास की तरह न बन जाए ड्रामा


भोपाल, (मनीष शर्मा) : मध्यप्रदेश में किसानों ने अपनी मांगों को लेकर सरकार के खिलाफ सड़कों पर बड़ा आंदोलन किया, सरकार भी सकते में आ गई और अब रूठे किसानों को साधने के लिए भाजपा सरकार किसान संदेश यात्रा निकाल रही है। इसके तहत भाजपाई गांव-गांव जाकर शिवराज सरकार की उपलब्धियां को बताएगी। इस यात्रा को लेकर पूर्व केन्द्रीय मंत्री कमलनाथ ने मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश में किसान प्रतिदिन आत्महत्या कर रहा है।

20 दिन में 29 किसानों ने आत्महत्या कर ली और भाजपा सरकार किसान संदेश यात्रा निकालने में लगी हुई है। कमलनाथ ने कहा कि किसानों की तकलीफ दूर करें तो ही यात्रा सार्थक, अन्यथा उपवास की तरह ये भी ड्रामा बनकर न रह जाए। कमलनाथ ने कहा कि शिवराज सरकार की संवेदनशीलता खत्म हो चुकी है।

यह यात्रा आत्महत्या कर रहे किसानों के घर उनका दर्द बांटने, उनकी समस्याएं जाने, उनके दुख-दर्द में सहभागी बने, उन्हें मुआवजा दिलवाए तथा मंडियों में कृषि उत्पाद बेचने कई-कई दिनों से परेशान लाईनों में लगे किसानों के पास जायें, उनकी परेशानियां जाने, फसल खरीदी में हो रही अव्यवस्थाओं का निदान करें।

किसानों को उनकी उपज बेचने में मदद करें तथा किसानों की तकलीफ दूर करें। तो ही यात्रा सार्थक अन्यथा उपवाह की तरह ये भी ड्रामा। साथ ही इस यात्रा के प्रचार-प्रसार पर खर्च किये जा रहे लाखों रूपये किसानों के कल्याण व उनके हित पर खर्च किये जायें तो ही यह यात्रा

सार्थक होगी।