अब मकान-खेत कराने होंगे आधार से लिंक


श्योपुर:नोटबंदी जैसे कड़े फैसले लेने के बाद केन्द्र सरकार के मुखिया नरेन्द्र मोदी अब रियल एस्टेट में बेनामी संपत्ति पर प्रभावी अंकुश लगाने की गरज से संपत्ति को आधार से लिंक कराने जा रहे हैं। अब प्रत्येक मकान,प्लॉट एवं खेत को आधार से लिंक कराना होगा और जो व्यक्ति ऐसा नहीं करेगा, उसकी संपत्ति को सरकार जब्त भी कर सकती है। कोई भी संपत्ति जैसे मकान,प्लॉट,खेत अब बेनामी नहीं रहेगी,क्योंकि इस तरह की संपत्तियों को अब आधार से लिंक कराना आवश्यक होगा। केन्द्र सरकार ने प्रदेश सरकार को इस संबंध में निर्देश भेज दिए हैं।

हालांकि राज्य सरकार पहले इस फार्मूले को पायलट प्रोजेक्ट के तहत कुछ स्थानों पर लागू करेगी। इसके बाद इसे श्योपुर सहित पूरे प्रदेश में लागू कर दिया जाएगा। बेनामी संपत्तियों को रोकने और आय और संपत्तियों पर पैनी निगरानी बढ़ाने के लिए यह सख्ती शुरू होने जा रही है।

केन्द्र सरकार ने प्रदेश के मुख्य सचिव,अतिरिक्त मुख्य सचिव को भेजे निर्देशों में स्पष्ट किया है कि सभी संपत्तियों का डिजिटलाइजेशन करना है, इसमें लैंड रिकार्ड,खरीदी और बिक्री रिकार्ड को आधार नंबर से लिंक कराना है। इसमें कृषि और गैर कृषि भूमि भी शामिल है। ध्यान रहे कि पीएम मोदी अपने भाषणों में बेइमानों को सख्त संदेश दे चुके हैं कि बेइमानी करने वालों संभल जाओ, नहीं तो सरकार उन्हें कहीं का नहीं छोड़ेगी। मकान,प्लॉट एवं जमीन को आधार से लिंक कराने के निर्णय को इसी से जोड़कर देखा जा रहा है, क्योंकि रियल एस्टेट में लोगों ने खासी बेनामी संपत्ति बना रखी है।

जिले में बड़ी संख्या में है बेनामी संपत्ति : जिले में बड़ी संख्या में बेनामी संपत्तियां हैं। यह व्यापारियों,राजनेताओं,जनप्रतिनिधियों आदि की हैं। इनमें जिले के साथ ही कुछ बाहर के लोग भी शामिल हैं। टैक्स न देना पड़े, इसके लिए तमाम लोगों ने संपत्तियां खरीदकर डाल रखी हैं,लेकिन सरकार की संपत्तियों को आधार से लिंक कराने जैसे चाबुक से ऐसे लोगों की रात की नींद और दिन का चैन हराम होना तय है।

ऐसे लोग अभी गाहे-बगाहे मन ही मन पीएम नरेन्द्र मोदी को कोसते रहते हैं और जब संपत्ति को आधार से लिंक करने का फरमान आएगा, तब वे दिन-रात कोसते नजर आएंगे। ऐसी होगी संपत्ति लिंक : यदि मकान,प्लॉट या जमीन की रजिस्ट्री आपके नाम है,नामांतरण भी है तो आपको प्रक्रिया शुरू होने पर रजिस्ट्रार कार्यालय जाकर अपने आधारकार्ड की फोटोकॉपी जमा कराना होगी। थंब प्रिंट भी लिया जा सकता है।

नामांतरण नहीं तो… यदि कोई संपत्ति आपके नाम से है,लेकिन उसका नामांतरण नहीं है,तो आपको पहले नामांतरण कराना होगा। आपके नाम से नामांतरण होने के बाद आपको आधार नंबर से लिंक कराने की प्रक्रिया पूरी करनी होगी।
…तो करानी होगी संपत्ति अपने नाम : तमाम लोग ऐसे हैं,जिन्होंने संपत्ति तो खरीदी है,लेकिन उसे अपने नाम न करते हुए टैक्स बचाने के लिए नौकर, रिश्तेदार या अन्य के नाम से संपत्ति ले रखी है तो पहले संपत्ति अपने नाम करानी होगी, फिर आधार से लिंक।

संपत्ति लिंक नहीं होने पर होगी कार्रवाई : केन्द्र सरकार द्वारा भेजे गए दिशा-निर्देशों के मुताबिक यदि किसी के पास संपत्ति है और उसने चाहते हुए भी उसे आधार से लिंक नहीं करवाया है, तो बेनामी लेनदेन निषेध कानून 2016 के तहत संबंधित पर कार्रवाई होगी।