मलेरिया एवं डेंगू रोग से नागरिकों को करें जागरूक


शिवपुरी : बैक्टर जनित बीमारियों के उन्मूलन विषयों पर कलेक्टर ओमप्रकाश श्रीवास्तव की अध्यक्षता में गत दिनों अंतर्विभागीय समन्वय जिला स्तरीय कार्यशाला सम्पन्न हुई। कार्यशाला में बैक्टरजनित रोगों की रोकथाम हेतु विभिन्न विभागों द्वारा की जाने वाली गतिविधियों के साथ जनसामान्य को मलेरिया एवं डेंगू के रोकथाम हेतु जागरूक करने पर चर्चा की गई। जिलाधीश कार्यालय के सभाकक्ष में आयोजित बैठक में जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती नेहा मारव्या, अपर कलेक्टर श्रीमती नीतू माथुर सहित संबंधित विभागों के जिला अधिकारीगण आदि उपस्थित थे।

कलेक्टर श्री श्रीवास्तव ने कहा कि गत वर्ष विभिन्न विभागों के आपसी समन्वय एवं तालमेल तथा लोगों को जागरूक करने से मलेरिया के प्रकरणों में काफी कमी आई थी। 186 ग्रामों में वितरित होंगी मच्छरदानी जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. श्रीमती अल्का त्रिवेदी ने बताया कि राज्य स्तर पर डिण्डोरी, बालाघाट, मंडला जिलों के साथ-साथ शिवपुरी एवं श्योपुर को मलेरिया के प्रकरणों हाईरिस्क जिलों की श्रेणी में रख गया है।

उन्होंने जिलों में मलेरिया नियंत्रण हेतु संचालित की जाने वाली गतिविधियों की जानकारी देते हुए बताया कि 186 ग्रामों में 28 केंद्रों पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा कार्यकर्ता और पंचायत सचिव की उपस्थिति में सहरिया जनजाति के परिवारों को मलेरिया की रोकथाम हेतु मेडिकेटेट मच्छरदानी का वितरण किया जाएगा। इसके साथ ही घरों में संग्रहित पानी के टैंकरों, बहने वाली नालियों में मच्छर का लार्वा को खाने वाली गम्बूसिया मछली डाली जाएगी। विभिन्न विभागों के सहयोग से लार्वा सर्वे दल घर-घर जाकर लार्वा विनिष्टीकरण का कार्य करेगा।