मंदसौर पहुंचे शिवराज


मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान किसान आंदोलन के दौरान मारे गये लोगों के परिजन को मिलने एवं सांत्वना देने के लिए मंदसौर पहुंचे और मृतकों के परिजन को एक-एक करोड़ रुपये मुआवजे से संबंधित कागजात दिये। मध्यप्रदेश जनसंपर्क विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि राज्य शासन द्वारा किसान आंदोलन के दौरान छह जून को मंदसौर जिले के मृतक छह लोगों के लिये मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान से एक करोड़ रुपये प्रति व्यक्ति के मान से छह करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता स्वीकृत कर दी गई है। उन्होंने कहा कि यह सहायता राशि मंदसौर जिले के कलेक्टर के माध्यम से ई-पेमेंट द्वारा मृतकों के परिजन को भुगतान की जायेगी।

                                                                                        Source

अधिकारी ने बताया कि कलेक्टर मंदसौर को राशि की स्वीकृति देने के साथ ही राशि हस्तांतरित कर शीघ्र सहायता राशि देने के निर्देश दिये गये हैं।छह जून को किसान आंदोलन के उग्र होने के दौरान मंदसौर जिले के पिपलियामंडी में पुलिस फायरिंग में पांच किसानों की मौत हो गई थी। इसके अलावा, मंदसौर जिले के बडवन गांव में 26 वर्षीय एक और किसान की मौत हुई थी। स्थानीय लोगों ने नौ जून को आरोप लगाया कि उसे पुलिस ने बुरी तरह से पीटा था, जिससे उसकी मौत हुई है। गौरतलब है कि मध्यप्रदेश के किसान अपनी उपज के वाजिब दाम सहित 20 मांगों को लेकर एक जून से 10 जून तक आंदोलन पर थे और इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने प्रदेश में हिंसा, आगजनी, तोडफ़ोड़ एवं लूटपाट की कई घटनाएं की। इसके लिए प्रदेश सरकार ने कांग्रेस पर भोले-भाले किसानों को भड़काने का आरोप लगाया है।

                                                                                    Source

सुबह किसान आंदोलन के दौरान मारे गये इन किसानों के परिजन को मिलने एवं सांत्वना देने के लिए मुख्यमंत्री चौहान आज विशेष विमान से मंदसौर पहुंचे। चौहान के साथ उनकी पत्नी साधना भी थी। वहां पहुंचने के बाद चौहान जिले के बडवन गांव गये और छह जून को किसान आंदोलन के दौरान मारे गये किसान घनश्याम धाकड़ के पिता दुर्गालाल धाकड़ और मृतक की पत्नी रेखा बाई से मिले। मुख्यमत्री ने पीडि़त परिवार को सांत्वना देते हुए बताया कि उनके खाते में एक करोड़ रुपये की राशि पहुंचा दी गई है। इससे पहले, भोपाल से मन्दसौर पहुंचने के बाद मुख्यमंत्री मन्दसौर में जन-प्रतिनिधियों और वरिष्ठ अधिकारियों से भी मिले।

                                                                                             Source

मुख्यमंत्री चौहान से नवलखा हवाई पट्टी पर सांसद सुधीर गुप्ता, विधायकगण जगदीश देवड़ा, यशपाल सिंह सिसोदिया, देवीलाल धाकड़ और बंशीलाल गुर्जर, जिला केन्द्रीय सहकारी बैंक के अध्यक्ष मदनलाल राठौर और जन-प्रतिनिधियों ने मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने मृतकों के परिजन को यह भी आश्वासन दिया कि इस गोलीकांड में जिस किसी ने भी उनके प्रियजनों की हत्या की है, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। बडवन गांव के बाद चौहान मंदसौर जिले के ग्राम लोध पहुंचकर मृतक किसान सत्यनाराण के पिता मांगीलाल से भेंट कर उन्हें सांत्वना दी और संवेदनाएं व्यक्त कीं। मुख्यमंत्री ने शोक संतप्त परिवार के मुखिया से कहा कि किसी प्रकार की चिंता न करें, मध्यप्रदेश सरकार पूरी तरह उनके साथ है। मुख्यमंत्री को मांगीलाल ने बताया कि उसकी जमीन गिरवी रखी हुई है तो उन्होंने कहा कि चिंता न करे गिरवी रखी जमीन छुड़वा देंगे।

                                                                                          Source

चौहान ने मांगीलाल को बताया कि सरकार ने मुआवजे के रूप में एक करोड़ रुपये स्वीकृत किये हैं। यह राशि उनके बैंक खाते में जमा हो जाएगी। परिवार में जो भी नौकरी लायक होगा, उसे सरकारी नौकरी दी जायेगी। उन्होंने मांगीलाल से कहा कि कोई भी परेशानी आये तो आप मेरे से मिल सकते हैं। इनके अलावा, मुख्यमंत्री इस गोलीकांड में मारे गये अन्य किसानों के परिजन से भी भेंट करने के लिए पिपलियामंडी, बरखेड़ा पंथ, बुढ़ा एवं चिलौंद पिपलिया गांव भी जाएंगे। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जिला प्रशासन ने मुख्यमंत्री के इस दौरे के लिए व्यापक सुरक्षा के इंतजाम किये हैं और विभिन्न स्थानों में पांच अस्थायी हेलीपैड भी बनाये हैं, ताकि वे बिना रोकटोक के मृतकों के परिजन से मिल सकें। इसी बीच, मंदसौर में पुलिस फायरिंग में मारे गये किसानों के मामले में कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया भोपाल में 72 घंटे के लिए टीटी नगर के दशहरा मैदान में सत्याग्रह पर बैठेंगे। कांग्रेस के एक प्रवक्ता ने कहा कि इसकी तैयारी कर ली गई है और सिंधिया का सत्याग्रह शाम को शुरू होगा।