फसल बीमा की धीमी गति से कमिश्नर नाराज


ग्वालियर: किसानों के खरीफ फसल बीमा कराने की अत्यधिक धीमी गति को लेकर संभागीय कमिश्नर एस.एन. रूपला ने कृषि अधिकारियों के खिलाफ नाराजगी व्यक्त की है। उन्होंने कृषि संयुक्त संचालक राजीव जोशी सहित संभाग के पांचों जिलों के कृषि उप संचालकों को नोटिस जारी करने के निर्देश दिए हैं। कमिश्नर रूपला मान सभागार में संभागीय अधिकारियों की बैठक में विभागीय योजनाओं की समीक्षा कर रहे थे।

कमिश्नर रूपला ने खरीफ फसल बीमा की समीक्षा करते हुए पाया कि अभी तक मात्र 10 हजार 648 किसानों का ही बीमा हुआ है। इसमें 10 हजार 345 ऋणी और 303 अऋणी किसान हैं जो बहुत ही कम हैं। इस पर कमिश्नर रूपला ने असंतोष व्यक्त करते हुए कृषि संयुक्त संचालक राजीव जोशी सहित ग्वालियर संभाग के ग्वालियर, दतिया, शिवपुरी, गुना और अशोकनगर कृषि उप संचालक को नोटिस जारी करते हुए अनुशासनात्मक कार्रवाई के निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि फसल बीमा कराने की अंतिम तिथि 16 अगस्त, 2017 निर्धारित है। कमिश्नर ने कहा कि अऋणी किसानों को कॉमन सर्विस सेंटर (सीएससी) और बैंक तथा ऋणी किसानों को बैंकों में पहुंचकर गवर्मेंट ऑफ इंडिया के एग्रीकल्चर डिपार्टमेंट के पोर्टल पर अपनी जानकारी अपलोड कराना है। यह कार्रवाई करते समय किसानों को अपने साथ बोनी का प्रमाण-पत्र, खसरे की नकल, कुल बीमित राशि का किसानों द्वारा दो प्रतिशत प्रीमियम राशि लाना होगी। इसके अलावा किसानों को आधारकार्ड भी लाना होगा। बीमा के लिए अब आधारकार्ड जरूरी किया गया है। बैंक पासबुक लाना अनिवार्य है।

समीक्षा के दौरान कमिश्नर ने कृषि, उद्यानिकी, राजस्व एवं बीमा कंपनियों से जुड़े अधिकारियों को पुन: निर्देश देते हुए कहा कि खरीफ फसल के दौरान शत-प्रतिशत किसानों का फसल बीमा 16 अगस्त तक हो जाए।  संयुक्त संचालक कृषि किसानों की बीमा अपडेट रिपोर्ट प्रस्तुत करें। कमिश्नर ने कहा कि फसल बीमा के दौरान कुल बीमित राशि का किसानों द्वारा दो प्रतिशत प्रीमियम ही जमा करना है।

चार प्रतिशत राज्य और चार प्रतिशत राशि केन्द्र सरकार द्वारा किसानों के हित में भरी जायेगी। कृषि विभाग का मैदानी अमला किसानों का बीमा कराने के लिए जुट जाएं। बीमा कंपनी गांव-गांव शिविरों का आयोजन करें। इस कार्य में किसी भी तरह की लापरवाही एवं उदासीनता बर्दाश्त नहीं होगी। समीक्षा के दौरान पाया कि ग्वालियर जिले में 89, दतिया में 27, शिवपुरी में 1224, गुना में 1052 और अशोकनगर में 8276 किसानों का ही खरीफ फसल बीमा हुआ है।

बैठक में कमिश्नर रूपला ने कॉपरेटिव बैंक वसूली पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि अभी भी वसूली बहुत कम है। हर सप्ताह कितनी वसूली हुई इसकी अपडेट रिपोर्ट प्रति बुधवार को प्रस्तुत की जाए। कमिश्नर ने स्वास्थ्य योजना में और अधिक गति लाने तथा स्वास्थ्य योजनाओं का लाभ श्रम विभाग के कर्मकार मण्डल की महिला मजदूरों को भी मिले।