राज्य सरकार ने स्वाइन फ्लू के इलाज के लिये इंदौर का अस्पताल चिन्हित


swine flu

भोपाल : मध्यप्रदेश सरकार ने एच1 एन1 इन्फ्लुएन्जा के इलाज के लिये इंदौर में एक और निजी अस्पताल ‘एप्पल’ को चिन्हित किया है। इस तरह प्रदेश में अब चिन्हित निजी अस्पतालों की संख्या 66 हो गई है। प्रदेश के सभी जिला अस्पतालों, मेडिकल कॉलेज में एच1 एन1, डेंगू और चिकनगुनिया के इलाज की पर्याप्त व्यवस्था है।

आधिकारिक जानकारी के अनुसार यह जानकारी आज स्वास्थ्य विभाग की दैनिक समीक्षा में दी गयी। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री रूस्तम सिंह ने लोगों से फिर अपील की है कि संक्रमण से बचाव ही उपचार है। सावधानी बरतकर संक्रमण से बचने का प्रयास करें। प्रदेश के जिन जिलों में एच1 एन1 इन्फ्लुएन्जा के मरीज पाये गये हैं, उन जिलों में मरीज के परिजनों और गाँव में घर-घर जाकर सर्वे एवं निगरानी की जा रही है। जिन लोगों को सर्दी-जुकाम, खाँसी, गले में खराश, सिर दर्द, बुखार के साथ साँस लेने में तकलीफ पाई जाती है, तो तत्काल उन्हें टेमी फ्लू दवा दी जा रही है।

स्वास्थ्य विभाग द्वारा संभागीय स्तर पर गठित ग्वालियर, भोपाल, जबलपुर और इंदौर की समीक्षा समितियों ने विगत बुधवार और शुक्रवार को अपने-अपने जिले के सभी चिकित्सालयों में एच1 एन1 प्रभावित मरीजों वाले अस्पताल का निरीक्षण किया। समिति ने सुनिश्चित किया कि मरीजों को उचित रूप से वेन्टिलेटर, दवा, उपचार आदि की सुविधा मिल रही है। स्वास्थ्य मंत्री ने लोगों से आग्रह किया है कि यदि एच1 एन1 इन्फ्लुएन्जा के प्रारंभिक लक्षण जैसे सर्दी, जुकाम, खाँसी, गले में खराश, सिर दर्द, साँस लेने में तकलीफ, तेज बुखार हो तो इसे कतई नजरअंदाज न करें। निकट के अस्पताल में जाकर तुरंत जाँच करायें। इलाज में देरी मरीज के लिये घातक सिद्ध हो सकती है।