कलेक्टर ने लिया पेहसारी बांध और फीडर कैनाल का जायजा


‘ग्वालियर: अल्प वर्षा की वजह से निर्मित हुईं विपरीत परिस्थिति को ध्यान में रख कर ग्वालियर शहर की पेयजल आपूर्ति सुचारू बनाये रखने के मकसद से जिला प्रशासन एवं नगर निगम द्वारा विशेष प्रयास किये जा रहे हैं। इस कड़ी में कलेक्टर श्री राहुल जैन एवं नगर निगम आयुक्त श्री विनोद शर्मा ने ककैटो-पेहसारी बांध और तिघरा जलाशय को जोड़ रहीं पोषक नहरों ( फीडर केनाल) का जायजा लिया। इस मौके पर जल संसाधन, पीएचई, विद्युत वितरण कंपनी और राजस्व विभाग के अधिकारी उनके साथ थे।

कलेक्टर श्री राहुल जैन ने मौके पर पहुंच कर ककैटो और पेहसारी जलाशयों में वर्तमान में पानी की उपलब्धता की वास्तविक स्थिति जानी। साथ ही तिघरा जलाशय को भरने के लिए फीडर कैनाल की स्थिति भी देखी। उन्होंने विद्युत वितरण कंपनी अधिकारियों को हिदायत दी कि ककैटो जलाशय से पेहसारी फीडर कैनाल में पानी लिफ्ट करने के लिए तत्परता से विद्युत कनेक्शन का इंतजाम करें।

उन्होंने कहा फिलहाल 11 केव्हीए की लाइन डालें। साथ ही 33 केव्हीए का छोटा उपकेन्द्र भी ककैटो जलाशय के समीप स्थापित करें, जिससे तिघरा तक पानी पहुंचाने में बिजली के कारण बाधा न पहुँचे। श्री जैन ने कहा विद्युत कनेक्शन के लिए धनराशि का इंतजाम शहर की पेयजल कार्ययोजना के तहत किया जाए। उन्होंने नगर निगम आयुक्त से ककैटो-पेहसारी से तिघरा जलाशय भरने संबंधी विशेष कार्ययोजना तैयार कर जल्द से जल्द शासन को भेजने को कहा। साथ ही जल संसाधन विभाग के अधिकारियों को सभी फीडर कैनाल की सफाई कराने की हिदायत दी।

मालूम हो तिघरा जलाशय की अपस्ट्रीम में पार्वती नदी पर ककैटो व अपर ककैटो बांध बने हैं। पेहसारी बांध स्थानीय महुअर नदी पर स्थित है। ये बांध फीडर केनाल के जरिये तिघरा जलाशय से जुड़े हैं। अधीक्षण यंत्री पीएचई नगर निगम एवं कार्यपालन यंत्री जल संसाधन के मुताबिक वर्तमान में ककैटो में 1658 एमसीएफटी और पेहसारी में 918 एमसीएफटी इस प्रकार कुल मिलाकर 2576 एमसीएफटी पानी उपलब्ध है।

अगर 25 प्रतिशत अनुमानित क्षति निकाल दें तो पंप करने के लिये 1932 एमसीएफटी पानी उपलब्ध होगा। वर्तमान में अगर बारिश न होने की दशा में फीडर कैनाल के जरिये पानी परिवहन किया जाता है तो लगभग 60 प्रतिशत अर्थात 1160 एमसीएफटी पानी तिघरा पहुंचेगा। इस प्रकार अगर बिल्कुल भी बारिश नहीं होती है तो तिघरा में वर्तमान में उपलब्ध जल 688 एमसीएफटी को मिलाकर कुल पानी की उपलब्धता 1848 एमसीएफटी हो जाएगी।  इस अवसर पर अधीक्षण यंत्री पीएचई नगर निगम श्री आर.एल.एस. मौर्य, कार्यपालन यंत्री जल संसाधन श्री ए.के. सिंघल व विद्युत वितरण कंपनी के इंजीनियर सहित अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद थे।