बदहाल शिक्षा व्यवस्था पर फूटा भाजपा विधायक का दर्द


भोपाल : मध्यप्रदेश विधानसभा में अपने विधानसभा क्षेत्र में स्कूलों के लिए इमारत ही नहीं होने और जर्जर इमारतों में लग रहे स्कूलों की स्थिति से व्यथित सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के एक विधायक का दर्द फूट पड़ा। एक स्कूल के लिए इमारत की बार-बार मांग कर रहे विधायक हजारी लाल दांगी ने स्कूल शिक्षा मंत्री विजय शाह के जवाब से असंतुष्ट होकर यहां तक कह डाला कि आगे से वे विधानसभा में कोई प्रश्न ही नहीं रखेंगे।

प्रश्नकाल के दौरान श्री दांगी ने कहा कि उनके विधानसभा क्षेत्र खिलचीपुर में प्राथमिक स्कूल की इमारत में हाईस्कूल लग रहा है, बारिश में इमारत से पानी टपकने के कारण पूरे मौसम में स्कूल की छुट्टी हो जाती है। उन्होंने मंत्री से मांग की कि इस बार की विभागीय कार्य योजना में कुछ गांवों के स्कूलों को शामिल कर लिया जाए। एक अन्य स्कूल का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि विभाग को इमारत के लिए जमीन मिली है, लेकिन उस पर अतिक्रमण हो गया है।

इस पर मंत्री श्री शाह ने कहा कि पूरे प्रदेश में खेल मैदानों और स्कूल के लिए निर्धारत जमीनों पर से एक महीने में अतिक्रमण हटा दिया जाएगा। इस पर विधायक ने कहा कि पूरे प्रदेश में समय लगेगा और उनके क्षेत्र विशेष के कार्य को विभागीय बजट में शामिल कर लिया जाए। मंत्री ने उनकी मांग पर एक बार फिर पहले अतिक्रमण हटाने की बात कही।

अपनी मांग बार-बार अनसुनी रहने से व्यथित विधायक ने व्यथित होते हुए तैश में आकर कहा कि उनके सवाल का कोई नतीजा नहीं निकला और वे आगे से विधानसभा में कोई सवाल ही नहीं रखेंगे। इस दौरान उन्होंने मंत्री श्री शाह से जुड़ एक टिप्पणी कर डाली, जिसे अध्यक्ष डॉ सीतासरन शर्मा ने कार्यवाही से विलोपित करा दिया।

देश और दुनिया का हाल जानने के लिए जुड़े रहे पंजाब केसरी के साथ।