तेलंगाना में सात दिसम्बर को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए महागठबंधन में शामिल कांग्रेस और उसके सहयोगियों ने भाकपा की उसके हिस्से की सीटें बढा़ने की मांग के बीच शनिवार को चर्चा की। महागठबंधन में कांग्रेस, तेदेपा, भाकपा और तेलंगाना जन समिति (टीजेएस) शामिल है।

भाकपा ने कांग्रेस द्वारा तीन सीटें दिये जाने पर असंतोष जताया था। भाकपा ने कहा कि उसे उम्मीद है कि बढ़ोतरी की उसकी मांग पर विचार किया जाएगा।

भाकपा प्रदेश सचिव सी वेंकट रेड्डी ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम ही थे जिन्होंने गंठबंधन बनाया। गठबंधन रहेगा। हम निश्वित रूप से सीटों के समायोजन में सफल होंगे। हम आशावाद के साथ आगे बढ़ेंगे।’’ भाकपा ने शुक्रवार को कहा कि उसने पांच सीटों पर चुनाव लड़ने का निर्णय किया है।

भाजपा रोधी मंच पर चर्चा के लिए 22 नवंबर को बैठक करेंगे विपक्षी दल : नायडू

तेदेपा तेलंगाना इकाई अध्यक्ष एल रमन्ना ने कहा कि गठबंधन के सहयोगी एक योजनाबद्ध तरीके से आगे बढ़ना चाहते हैं।

कांग्रेस के तेलंगाना मामलों के प्रभारी आर सी खुंटिया ने कहा था कि कांग्रेस उम्मीदवारों की पहली सूची 10 नवम्बर को जारी करेगी। हालांकि बातचीत के बेनतीजा रहने की वजह से इसे टाल दिया गया। प्रदेश में विधानसभा की 119 सीटें हैं।

कांग्रेस ने कहा था कि उसने 25 सीटें छोड़ने का निर्णय किया है जिसमें 14 तेदेपा, आठ सीटें टीजेएस और तीन भाकपा के लिए।

इस बीच मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने जारी एक विज्ञप्ति में कहा कि चुनाव आयोग ने एक आदेश जारी करके तेलंगाना में एक्जिट पोल कराने और उसके परिणाम प्रकाशित करने पर 12 नवम्बर को सुबह सात बजे से सात दिसम्बर को शाम साढ़े पांच बजे तक रोक लगा दी है।