भ्रष्टाचार से महाराष्ट्र सरकार के पारदर्शी कामकाज की फजीहत : शिव सेना


shivsena

मुंबई : शिव सेना ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के आवास मंत्री पर विपक्ष द्वारा लगाये गये भ्रष्टाचार से महाराष्ट्र सरकार के पारदर्शी कामकाज की फजीहत हो रही है। शिव सेना ने पार्टी के मुख पत्र सामना के आज के संपादकीय में लिखा है कि झोपड़पट्टी पुनर्वसन योजना में सैकड़ों करोड़ रुपये का भ्रष्टाचार हुआ है और गृह निर्माण मंत्री प्रकाश मेहता के गैर कानूनी कृत्यों का पर्दाफाश हुआ है।

दक्षिण मुंबई स्थित ताडदेव में एम पी मिल कंपाउंड के पुनर्वसन योजना में भवन निर्माता को लाभ पहुंचाने का निर्णय मंत्री महोदय ने लिया और भ्रष्ट फाइल पर मुख्यमंत्री के नाम से टिप्पणी करते हुए भ्रष्टाचार की फाइल को आगे बढ़ाने का काम भी किया इसलिए अब स्वयं मुख्यमंत्री पर भ्रष्टाचार के छींटे उड़ रहे हैं।

संपादकीय में लिखा गया कि इन सभी मामलों में 500 करोड रूपये से अधिक का चूना लगाया जाता है और मुख्यमंत्री इन सभी मामलों से अपना हाथ झटक कर अलग हो जाते हैं लेकिन यह एक गंभीर मामला है जिस पर मुख्यमंत्री को ध्यान होगा। मुख्यमंत्री प्रतिदिन पारदर्शी काम काज और भ्रष्टाचार को बर्दाश्त नहीं करने की बात करते हैं। सामना ने पूछा कि एक भूखंड मामले में एकनाथ खड्से को कुर्सी गंवानी पड़ी तो फिर मेहता कैसे मंत्रिमंडल में अभी तक बने हुए हैं।