घाटकोपर हादसा : मृतकों की संख्या 17 पहुंची, बिल्डिग़ का मालिक शिवसेना नेता गिरफ्तार


मुंबई: मुंबई के घाटकोपर उपनगरीय इलाके में मंगलवार की सुबह एक जर्जर चार मंजिला आवासीय इमारत गिरने से मरनेवालों की तादाद बढ़कर 17 हो गई है। इमारत के मलबे से 28 लोगों को ज़िंदा निकाला गया है जिनमें 9 का अस्पताल में इलाज चल रहा है। हादसे के 15 घंटे बाद देर रात एक बजे एक शख्स को ज़िंदा निकाला गया। कुछ लोगों के अब भी मलबे में दबे में होने की आशंका है जिन्हें निकालने के लिए राहत और बचाव कार्य जारी है। रात में भी एनडीआरएफ और फायर ब्रिगेड की टीम राहत और बचाव का काम कर रही थी। वहीं इस मामले में बिल्डिंग के मालिक और शिवसेना नेता को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है।

बताया जा रहा है कि ये बिल्डिंग शिवसेना के नेता सुनील सिताप की है। उन्हें हिरासत में लिया गया है. कल मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने घटना वाली जगह का दौरा किया था और हादसे की जांच के आदेश दे दिए थे।

 

बिल्डिंग का नाम था साई दर्शन 

घाटकोपर इलाके में जमीदोज हो चुकी इस चार मंजिला इमारत का नाम साई दर्शन था। सुबह करीब साढ़े दस बजे ये बिल्डिंग जब गिरी तो पूरे इलाके में दहशत का माहौल पैदा हो गई. इस बिल्डिंग के नीचे ही एक नर्सिंग होम भी चल रहा है था। इस चार मंजिला इमारत में कितने लोग दबे थे इसका किसी को कोई अंदाजा नही था।

बिल्डिंग के मलवे तले दबे लोगों को तुरंत निकालने का काम शुरू हुआ और जांच शुरू हुई तो पता चला की इस बिल्डिंग के नीचे शिवसेना नेता सुनील सिताप नामक शख्स का नर्सिंग होम भी चलता था और सुनील सिताप की बीवी बीएमसी का चुनाव भी लड़ चुकी हैं। हादसे के वक्त इस नर्सिंग होम में कुछ मरम्मत का काम चल रहा था।

इस हादसे के बाद वहां नेताओं और मंत्रियों के आने जाने का सिलसिला शुरू हो गया। घटना स्थल पर पहुंचे मुंबई के मेयर के मुताबिक इस इस इमारत को बीएमसी की तरफ से जर्जर होने का नोटिस नहीं दिया गया था।

घटना स्थल पर पहुंचे महाराष्ट्र के गृहनिर्माण मंत्री ने बताया कि ये इमारत करीब 35 साल पुरानी थी। फिलहाल इस जमीदोज हो चुकी इस इमारत के मलवे को हटाने का अभी भी काम जारी है और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने बीएमली कमिश्नर को इस मामले की जांच करने के आदेश भी दे दिये हैं।