गोवा : स्वास्थ्य मंत्री, विपक्ष के नेता के बीच आरोप प्रत्यारोप


पणजी: गोवा सरकार में मंत्री विश्वजीत राणे ने आज राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता चंद्रकांत कावलेकर पर पार्टी के प्रति निष्ठाहीन होने का आरोप लगाया। राणे ने कावलेकर के बयान पर प्रतिक्रिया दी है, जिसमें विपक्ष के नेता ने कहा कि राणे सत्ता के लिए कांग्रेस को छोड़ भाजपा में शामिल हुए हैं। राणे ने यहां संवाददाताओं से कहा, ” पिछले पांच साल में, कावलेकर ने सीएलपी की एक भी बैठक में शिरकत नहीं की। मैं सीएलपी के पंजीकृत रजिस्टर को सार्वजनिक कर सकता हूं जो यह दिखाएगा कि कैसे कावलेकर पार्टी के प्रति निष्ठाहीन हैं।” राणे ने कांग्रेस छोड़ दी थी और मार्च में चुनाव के तुरंत बाद विधानसभा से भी इस्तीफा दे दिया था।

राणे बाद में भाजपा में शामिल हो गए थे और मनोहर पर्रिकर सरकार में स्वास्थ्य मंत्री बन गए। कावलेकर ने कहा था, ” राणे को कांग्रेस का टिकट मिला और सत्ता की खातिर भाजपा में शामिल होने के लिए उन्होंने इस्तीफा दे दिया। उन्हें कांग्रेस के बारे में बात करने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है।” राणे के आरोपों का जवाब देते हुए कावलेकर ने कहा, ” वह :राणे: हताशा में बयान दे रहे हैं। मैं नियमित तौर पर सीएलपी की बैठकों में शिरकत करता रहा हूं और हमेशा पार्टी के लिए निष्ठावान रहा हूं।” कावलेकर ने कहा, ” मंत्री को यह अहसास हो गया है कि उन्हें अदालत के जरिए उपचुनाव लडऩे से रोका जा सकता है या वह चुनाव हार सकते हैं।”

-भाषा