छात्रों के जबरन बाल काटने के मामले में शिक्षक समेत 3 गिरफ्तार


arrest

हमने स्कूल में शैतानी करने व नियमों का पालन न करने पर टीचर को स्टूडेंट को मारते-डांडते हुए तो सुना था पर ड्रेस कोड का पालन ना करने पर ऐसी सजा तो आपने भी न कभी देखी और न सुनी होगी। जी हां, मुंबई के स्कूल की एक ऐसी वारदात सामने आई है जिससे पढ़कर आप हैरान हो जायेंगे।

स्कूल ने कथित तौर पर कुछ दिन पहले छात्रों को छोटे-छोटे बाल रखने के लिए कहा था लेकिन इनमें से कुछ छात्रों ने ऐसा नहीं किया जिसके बाद स्कूल निदेशक गणेश बाटा (40), शारीरिक प्रशिक्षण शिक्षक मिलिंद जानके (33) और कार्यालय सहायक तुषार गोरे (32) ने उन्हें सबक सिखाने का फैसला लिया। सूत्रों के मुताबिक, कक्षा पांचवीं से आठवीं तक के लिए 25 लड़कों को स्कूल के आदेश के अनुसार बाल छोटे ना रखने के लिए सजा दी गई।

                                                                                                      Source

तीनों ने कथित तौर पर बड़ी संख्या में छात्रों के बाल काटे। कैंची से दो लड़के घायल भी हो गए थे। जिसके बाद स्कूल निदेशक पर केस दर्ज किया गया। पुलिस ने एक शिक्षक और निदेशक समेत तीन स्टाफ कर्मियों को निर्धारित ड्रेस कोड का पालन ना करने पर सजा देने के लिए 25 छात्रों के बाल जबरन काटने के आरोप में गिरफ्तार किया। पुलिस ने बताया कि यह घटना विक्रोली उपनगर में सुबह की प्रार्थना के बाद हुई जिसके बाद कुछ छात्रों के अभिभावकों की शिकायत पर आरोपियों को कल देर रात गिरफ्तार कर लिया गया।

विक्रोली पुलिस थाने के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक श्रीधर हनचटे ने कहा कि “हमने तीनों आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 324: जानबूझकर खतरनाक हथियारों से चोट पहुंचाना, धारा 335: उकसाने पर जानबूझकर गंभीर चोट पहुंचाने और धारा 34: एक ही मंशा से कई लोगों द्वारा किए गए कृत्य तथा जुवेनाइल जस्टिस एक्ट की धारा 75 के तहत मामला दर्ज किया और इसके बाद गिरफ्तारियां की गई।” उन्होंने बताया कि सभी आरोपियों को आज एक स्थानीय अदालत में पेश किया गया और मामले की जांच चल रही है।