एसआईटी ने कामत की अग्रिम जमानत याचिका खारिज की


पणजी: गोवा अपराध शाखा के विशेष जांच दल (एसआईटी) ने अवैध खनन मामले में पूर्व मुख्यमंत्री दिगम्बर कामत की अग्रिम जमानत याचिका का आज विरोध किया ताकि हिरासत में उनसे पूछताछ की जा सके। गोवा की एक जिला अदालत ने 24 अप्रैल को इस शर्त पर कामत को अग्रिम जमानत दी थी कि वह एसआईटी के साथ सहयोग करेंगे। वरिष्ठ कांग्रेस नेता उस समय इस मामले के संबंध में एसआईटी के जांच अधिकारी के समक्ष पेश हुए थे। जिला अदालत ने आज यहां कामत द्वारा दायर अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवायी की।

एसआईटी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ”एसआईटी अपने जवाब में कामत की हिरासत में पूछताछ की मांग करती है और अग्रिम जमानत के लिए उनकी याचिका का विरोध करती है। इस मामले में निष्पक्ष जांच के लिए कई सवालों के जवाब दिए जाने की जरूरत है।”अदालत ने इस मामले पर अगली सुनवायी के लिए 29 मई की तारीख तय की। कामत से इस मामले के संबंध में एसआईटी ने फरवरी 2014 और गत महीने भी पूछताछ की थी। न्यायाधीश (सेवानिवृत) एम बी शाह आयोग की रिपोर्ट के मुताबिक गोवा में 2005 से 2012 तक उस समय 35 हजार करोड़ रूपये तक का अवैध खनन किया गया जब उच्चतम न्यायालय ने राज्य में लौह अयस्क के खनन पर रोक लगा रखी थी।

-भाषा