सत्ताधारी भाजपा के खिलाफ एक मजबूत विपक्षी मोर्चा बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आगामी लोकसभा चुनाव के लिए उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा के बीच हुए गठबंधन का शनिवार को स्वागत किया। बनर्जी ने ट्वीट किया, ‘‘आगामी लोकसभा चुनाव के लिए सपा और बसपा के गठबंधन का मैं स्वागत करती हूं।’’

तृणमूल कांग्रेस प्रमुख भाजपा की मुखर आलोचक रही हैं। वह आगामी लोकसभा चुनाव में भाजपा से मुकाबले के लिए विपक्षी गठबंधन के निर्माण की कोशिश में पिछले एक साल से देश में भ्रमण कर रही हैं।

उन्होंने सपा प्रमुख अखिलेश यादव के साथ ही तेदेपा, जदएस, आप, राकांपा, पीडीपी, नेशनल कान्फ्रेंस, द्रमुक और कांग्रेस के नेताओं सहित कई अन्य को उनके द्वारा यहां ब्रिगेड परेड मैदान में 19 जनवरी को आहूत संयुक्त विपक्ष की रैली में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया है।

देश की सुरक्षा, विकास और गौरव के लिए 2019 लोकसभा चुनाव में BJP का जीतना जरूरी : शाह

हालांकि अधिकतर दलों ने रैली में शामिल होने की पुष्टि कर दी है, कांग्रेस ने अभी यह घोषणा नहीं की है कि वह इसमें हिस्सा लेगी या नहीं तथा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी इस मौके पर उपस्थित रहेंगी या नहीं।

इससे पहले बनर्जी ने महत्वपूर्ण हिंदी भाषी राज्य उत्तर प्रदेश से भाजपा को उखाड़ फेंकने के लिए समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन का सुझाव दिया था। उत्तर प्रदेश में लोकसभा की 80 सीटें हैं।

गत वर्ष उत्तर प्रदेश के गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनावों में सपा..बसपा के संयुक्त उम्मीदवारों की जीत के बाद बनर्जी ने कई ट्वीट करके कहा था कि यह भाजपा के अंत की शुरुआत है।

तृणमूल कांग्रेस प्रमुख बनर्जी पहले ही घोषणा कर चुकी हैं कि उनकी पार्टी पश्चिम बंगाल में सभी 42 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी।