भारत चीन सीमा पर हलचल तेज , लोकसभा में मुलायम ने उठाया डोकलाम मुद्दा


डोकलाम मुद्दे पर भारत चीन सीमा पर तनातनी बनी हुई है डोकलाम का मुद्दा गरमाता जा रहा है आपको बता दे कि डोकलाम मुद्दे को लेकर भारत और चीन की सेना के बीच विवाद जारी है । वही चीन के साथ भूटान के क्षेत्र डोकलाम पर चल रहे विवाद में भारत की ओर से स्पष्ट संकेत हैं । कि वह पीछे नहीं हट सकता। इस मुद्दे पर भारत का स्टैंड साफ है। वहां पर चीन को सड़क बनाने नहीं दिया जाएगा। अब हालत यहां तक पहुंच गए है कि दोनों तरफ से सीमा पर हलचल तेज हो गई है । और भारत चीन सीमा से सटे पोस्टों पर दोनों तरफ से फौज की तैनाती ओर बढ़ गई है।

हालांकि, भारत मुद्दे को सुलझाने में जुटा हुआ। भारत की तरफ जहां विदेश मंत्रालय बातचीत के जरिए मामले को सुलझाने की कोशिश कर रहा है वहीं इस को लेकर भारत चौकन्ना भी है।

वही चीनी मीडिया लगातार भारत को युद्ध की धमकियां दिए जा रहा है । अगर यदि युद्ध हुआ तो भारत को इस टकराव का परिणाम भुगतना पड़ सकता है। चीन की सरकारी मीडिया ग्‍लोबल टाइम्‍स ने भारत पर आरोप लगाते हुए कहा कि 16 जून को भारतीय सेना ने सिक्किम सेक्‍टर में बॉर्डर पारकर चीनी क्षेत्र में प्रवेश किया । भारत की यह कार्रवाई सीधे तौर पर चीनी संप्रभुता पर अतिक्रमण है ।

ग्‍लोबल टाइम्‍स की तरफ से चीन को कहा गया है कि यदि यह स्थिति लंबे समय तक बनी रहती है तो चीन को भारत का जवाब देने के लिए तैयार रहना चाहिए। लेख में 1962 के बाद भारत पर लगातार उत्तेजित करने का आरोप लगाया गया है। इसमें लिखा गया है कि चीन को भविष्य में होने वाले सभी तरह के टकरावों के लिए तैयार रहना चाहिए।

वही चीन के विदेश मंत्रालय का कहना है कि उन्होंने बीजिंग में विदेशी राजनयिकों को डोकलाम में गतिरोध को लेकर जानकारी दी और वे भारतीय जवानों द्वारा चीनी क्षेत्र में ‘अवैध रूप से दाखिल’ होने की घटना को जानकर ‘स्तब्ध’ हो गए। वही चीन ने इस डोकलाम मुद्दे पर तनाव से बढ़ाने से बचने के लिए भारत को डोकलाम में अपने आर्मी को हटाने की चेतावनी दी।

वही मुलायम ने लोकसभा में उठाया भारत चीन सीमा विवाद
पूर्व रक्षा मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने लोकसभा में चीन के साथ विवाद का मुद्दा उठाया है । डोकलाम पर चीन से विवाद के बीच मुलायम सिंह यादव ने कहा कि भारत का सबसे बड़ा दुश्मन चीन है और पाकिस्तान भारत का कुछ भी नहीं बिगाड़ सकता है मुलायम ने कहा है कि चीन भारत पर हमले की तैयारी कर चुका है । हमारे विरोध के बाद भी तिब्बत चीन के हाथों सौंप दिया गया। अगर चीन अब हमला करेगा तो तिब्बत के रास्ते ही करेगा। काफी दिनों बाद पुराने अंदाज में दिखे मुलायम ने कहा कि हमें तिब्बत की आजादी का मुद्दा उठाना चाहिए। चीन और पाकिस्तान हमें कश्मीर के मुद्दे पर घेरने की कोशिश कर रहा है। इसके साथ ही पूर्व रक्षा मंत्री मुलायम सिंह यादव ने कहा कि चीन भूटान पर कब्जा कर रहा है भूटान की रक्षा करना हमारी जिम्मदारी है । वही चीन तिब्बत की सीमा पर चीन युद्धाभ्यास कर रहा है।

जानिए , क्या है भारत चीन विवाद का पूरा मामला

> दोनों देशों के बीच 3,500 किमोलीटर (2,174 मील) लंबी सीमा है।

> भारत और चीन चुंबी घाटी के इलाके में आमने-सामने है, जहां भारत-भूटान और चीन तीन देशों की सीमाएं मिलती हैं। डोकलाम पठार चुंबी घाटी का ही हिस्सा है जहां भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच तनाव हुआ है।

> इस पूरे विवाद से भारत की चिंता इस बात को लेकर है इस इलाके से चीन की तोपें चिकेन्स नेक कहे जाने वाली इस संकरी पट्टी के बेहद करीब तक आ सकती हैं। जो उत्तर पूर्व को पूरे भारत से जोड़ती है।

> डोकाला पठार से सिर्फ 10-12 किमी पर ही चीन का शहर याडोंग है। जो हर मौसम में चालू रहने वाली सड़क से जुड़ा है डोकाला पठार नाथूला से सिर्फ 15 किमी की दूरी पर है।

> भूटान सरकार भी डोकाला इलाके में चीन की मौजूदगी का विरोध कर चुकी है, जो कि जोम्पलरी रिज में मौजूद भूटान सेना के बेस से बेहद करीब है।

> जून की शुरुआत में चीनी वर्करों ने याडोंग से इस इलाके में सड़क को आगे बढ़ाने की कोशिश की, जिसकी वजह से ठीक इसी इलाके में भारतीय जवानों ने उन्हें ऐसा करने से रोका।