नए एक्सप्रेसवे से सिर्फ 12 घंटे में तय होगी दिल्ली से मुंबई की दूरी !


नई दिल्ली: केंद्र सरकार गुरुग्राम (गुड़गांव) को देश की व्यापारिक राजधानी मुंबई के साथ जोड़ते हुए एक नया एक्सप्रेसवे बनाने की योजना बना रही है, जिससे लगभग 12 घंटे कम समय में यात्रा पूरी की जा सकेगी। राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने सोमवार को कहा, ‘नया गुरुग्राम-मुंबई एक्सप्रेसवे तीन साल में तैयार हो जाएगा। एक्सप्रेसवे दो जिलों हरियाणा में मेवात और गुजरात में दाहोद से कनेक्ट होगा। इस परियोजना की लागत लगभग 60,000 करोड़ रुपए है।

 

इस एक्सप्रेसवे से दिल्ली से मुंबई के के बीच 1,450 किमी की मौजूदा दूरी को लगभग 1,250 किलोमीटर तक कम कर दिया जाएगा। अभी रोड द्वारा दिल्ली से मुंबई पहुंचने में कम से कम 24 घंटे लगते हैं। नए एक्सप्रेसवे के पूरा होने के बाद दिल्ली से मुंबई के बीच का समय लगभग 12 घंटे कम हो जाएगा। इस योजना पर गडकरी ने कहा कि दिसंबर तक काम शुरू होगा और तीन साल में पूरा हो जाएगा। एक्सप्रेसवे गुड़गांव के राजीव चौक से शुरू होगा।

 इस एक्सप्रेसवे का रुट दिल्ली-गुड़गांव-मेवात-कोटा-रतलाम-गोधरा-वड़ोरा-सूरत-दहिसर-मुंबई होगा। गडकरी ने कहा कि यह पूरा एक्सप्रेसवे राजस्थान, हरियाणा और मध्य प्रदेश में अविकसित क्षेत्रों और तटस्थ क्षेत्र में विकास लाएगा। औद्योगिक और वाणिज्यिक विकास रोजगार पैदा करेगा।
ईस्टर्न पेरिफेरल: 1.5 घंटे में 135 KM का सफर

गडकरी ने कहा कि इस एक्सप्रेसवे को बनाने के लिए वडोदरा से सूरत के बीच काम के लिए टेंडर जारी किए जा चुके हैं, जबकि सूरत से मुंबई के लिए टेंडर जल्द जारी होगा। उन्होंने कहा, ‘यह एक्सप्रेसवे राजस्थान, हरियाणा और मध्य प्रदेश के पिछड़े जिलों के विकास का जरिया बनेगा। कई पिछड़े इलाके गुरुग्राम की तरह चमक सकेंगे। इन इलाकों में औद्योगिक एवं वित्तीय विकास से नौकरियों के अवसर पैदा होंगे। फिलहाल हम मौजूदा हाईवेज को ही चौड़ा करने की बजाय नई सड़कों के निर्माण के काम में जुटे हैं।’

देश और दुनिया का हाल जानने के लिए जुड़े रहे पंजाब केसरी के साथ