उज्ज्वला योजना का आधा लक्ष्य पूरा


जंगीपुर (पश्चिम बंगाल), (भाषा): राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने उज्ज्वला योजना के तहत एक महिला को मुफ्त रसोई गैस कनैक्शन भेंट किया। इसके साथ ही गरीब परिवारों को मुफ्त रसोई गैस कनैक्शन देने की इस योजना के तहत ढाई करोड़ परिवारों को गैस कनैक्शन उपलब्ध करा दिये गये हैं। सरकार ने उज्ज्वला योजना के तहत पांच करोड़ महिलाओं को मुफ्त रसोई गैस देने का लक्ष्य रखा है जिसमें से आज आधा लक्ष्य हासिल कर लिया गया।

सरकार ने पिछले साल मई में गरीब परिवारों की पांच करोड़ महिलाओं को तीन साल में मुफ्त रसोई गैस कनैक्शन उपलब्ध कराने के लिये उज्ज्वला योजना शुरू की। इसका मकसद लकड़ी और उपले जैसे प्रदूषण फैलाने वाले ईंधन के उपयोग को कम करना है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार प्रदूषण फैलाने वाले ईंधन के उपयोग से देश में हर साल 13 लाख लोगों की मौत होती है। उच्च रक्तचाप के बाद भारत में लकड़ी और उपले को जलाने से घर के भीतर और आसपास प्रदूषण से सर्वाधिक मौत होती है।

मुखर्जी ने यहां अपने निवास जंगीपुर हाउस में गौरी सरकार को रसोई गैस कनेक्शन सौंपा। इसके साथ प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत 2.5 करोड़ गरीब परिवारों को मुफ्त रसोई गैस कनेक्शन उपलब्ध करा दिया गया है। इस मौके पर आयोजित कार्यक्रम में राष्ट्रपति के गृह नगर जंगीपुर के साथ रघुनाथ गंज और मुर्शिदाबाद की कुल 10 महिलाओं को मुफ्त रसोई गैस कनैक्शन सौंपे गये। इस मौके पर पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान भी उपस्थित थे।

बाद में प्रधान ने ट्विटर पर लिखा है, प्रणब मुखर्जी ने 2.5 करोड़वां मुफ्त रसोई गैस कनैक्शन गौरी सरकार को पश्चिम बंगाल के जंगीपुर हाउस में दिया। मुझे इसमें शामिल होकर गर्व है। सरकार मार्च 2019 तक देश के 80 प्रतिशत परिवारों में एलपीजी कनैक्शन उपलब्ध कराने का लक्ष्य लेकर चल रही है। यह एक अप्रैल को 72.8 प्रतिशत था।

सरकार ने गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले परिवार की महिलाओं को मुफ्त एलपीजी कनैक्शन देने के लिये 8,000 करोड़ रुपये का आवंटन किया है। प्रधान ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि हमारे पास 2.5 करोड़ उज्ज्वला को संभव बनाने वाले समर्पित अधिकारियों की टीम है। इसको लेकर भाग्यशाली हूं। उन्होंने राष्ट्रपति और लाभार्थी की तस्वीर भी साझा की।