पहाड़ों में इंटरनेट सवाएं बहाल करने की मांग खारिज


दार्जिलिंग, (भाषा): इंटरनेट के बिना नौवीं कक्षा के छात्रों के बोर्ड परीक्षा का फॉर्म नहीं भर पाने के कारण दार्जिलिंग शिक्षक संघ ने आज जिला अधिकारी से मुलाकात की और इंटरनेट सेवाएं बहाल करने की मांग की लेकिन उनकी मांग नहीं मानी गई। अधिकारियों ने पहाड़ों में यह कहते हुए इंटरनेट सेवाएं बहाल करने की मांग को खारिज कर दिया कि वे छात्रों के सिलिगुड़ी जाने के लिए विशेष प्रबंध करेंगे ताकि वे अपने फॉर्म भर सकें।

शिक्षक संगठन ने जुलूस निकाला और जिलाधिकारी से मांग की कि इंटरनेट सेवाएं बहाल की जाएं। उनका कहना है कि नौवीं कक्षा के छात्र बोर्ड परीक्षाओं के लिए अपना फॉर्म नहीं भर पा रहे हैं। बहरहाल अधिकारियों ने पहाड़ों में कानून-व्यवस्था की समस्या को देखते हुए मांग खारिज कर दी जहां अलग गोरखालैंड की मांग को लेकर पिछले 40 दिनों से अनिश्चितकालीन बंद जारी है। दार्जिलिंग में इंटरनेट सेवाओं पर 18 जून को पाबंदी लगा दी गई थी।

जिले के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया,’शिक्षक संगठन के सदस्य इंटरनेट सेवा बहाली के लिए ज्ञापन देने आए थे लेकिन हमने उनसे कहा कि इंटरनेट को चुनिंदा तरीके से शुरू नहीं किया जा सकता। हमने उनसे कहा कि हम विशेष प्रबंध करेंगे ताकि छात्र सिलिगुड़ी जाकर अपना फॉर्म भर सकें।’ इस बीच पिछली रात से पहाड़ों में किसी अप्रिय घटना की खबर नहीं है। जीजेएम समर्थकों ने गोरखालैंड की मांग करते हुए दिन में चौकबाजार इलाके में रैली निकाली। सभी प्रवेश और निकास द्वार पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम दिखे।