लाल बत्ती का इस्तेमाल नहीं छोड़ेंगे


नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल में टीपू सुल्तान मस्जिद के शाही इमाम ने कहा है कि वह लाल बत्ती का उपयोग जारी रखेंगे क्योंकि यह लाल बत्ती उनको पूर्व ब्रिटिश सरकार ने दी थी। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार का वह कोई भी गलत कानून नहीं मानेंगे। उन्होंने कहा है कि केंद्र सरकार का कोई भी कानून नहीं मानूंगा। बरकती ने कहा कि वह लाल बत्ती का इस्तेमाल करते रहेंगे, क्योंकि पूर्व ब्रिटिश सरकार ने इसकी इजाजत दी थी। बरकरती ने कहा है कि मैं शाही इमाम हूं और इसलिए मैं अदालत के आदेश के बावजूद लाल बत्ती नहीं छोडूंगा, शाही इमाम सीपीआई (एम) की अवधि के बाद से लाल बत्ती का इस्तेमाल कर रहे हैं और किसी ने इसके लिए कभी भी विरोध नहीं किया है। सरकार को लाल बत्ती पर प्रतिबंध लगाने का कोई अधिकार नहीं है।

मंत्री लोगों के घर जाते हैं और वोटों के लिए भीख मांगते हैं, इसलिए उन्हें लाल बत्ती का इस्तेमाल करने का कोई अधिकार नहीं है। कोलकाता के टीपू सुल्तान मस्जिद के शाही इमाम मौलाना नुरुर रहमान इमाम बरकती द्वारा प्रतिबंध के बावजूद लाल बत्ती का इस्तेमाल किए जाने की बात कहे जाने पर भारतीय जनता पार्टी ने तंज कसा है। भाजपा नेता मीनाक्षी लेखी ने कहा, अगर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी लाल बत्ती का इस्तेमाल नहीं कर सकतीं तो कैसे वह बरकती को करने दे सकती हैं?

यह मुझे मुहावरे अंधेर नगरी चौपट राजा की याद दिलाता है, क्योंकि भारतीय संविधान के तहत सिर्फ एंबुलेस को लाल बत्ती का इस्तेमाल किए जाने की इजाजत है। साथ ही भारतीय जनता पार्टी के नेता सी.के. बोस ने इमाम को राष्ट्र विरोधी बताया और कहा कि मुझे लगता है कि उन्हें तत्काल गिरफ्तार किया जाना चाहिए और सलाखों के पीछे पहुंचा देना चाहिए क्योंकि कानून को तोडऩे की अनुमति किसी को नहीं है।