गोरखालैंड की मांग के साथ जीजेएम की अनिश्चितकालीन हड़ताल


दार्जिलिंग: ममता बनर्जी सरकार और प्रभावशाली गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) के बीच नए मुकाबले के लिए दार्जिलिंग का पहाड़ी क्षेत्र तैयार है। जीजेएम ने गोरखालैंड की मांग को फिर से उठाते हुए कल से सरकारी कार्यालयों के अनिश्चितकालीन बंद का आह्वान किया है।

जीजेएम अध्यक्ष बिमल गुरूंग ने ”अप्रिय” घटनाओं की आशंका के चलते पर्यटकों को पहाड़ी इलाके से निकल जाने को कहा है। केंद्र की सत्तारूढ़ राजग सरकार की सहयोगी जीजेएम ने राज्य के सरकारी कार्यालयों तथा गोरखालैंड क्षेत्रीय प्रशासन (जीटीए) के कार्यालयों के अनिश्चितकालीन बंद का आह्वान किया है लेकिन शैक्षणिक संस्थानों, परिवहन तथा होटलों को इसके दायरे से बाहर रखा है।

जीजेएम ने बैंकों को आदेश दिया है कि वे हफ्ते में केवल दो दिन ही खोले जाएं। इधर, तृणमूल कांग्रेस की सरकार ने आंदोलन जारी रहने तक अपने सभी कर्मचारियों तथा सरकारी सहायता प्राप्त संस्थानों के कर्मचारियों को प्रतिदिन कार्यालय जाने का आदेश दिया है और चेतावनी जारी की है कि ड्यूटी से उनकी अनुपस्थिति को सेवा में अंतराल माना जाएगा।