नई हथकरघा नीति लाएगी सरकार


गुवाहाटी : राज्य में हथकरघा खंड के विकास के लिए सरकार शीघ्र ही एक नई हथकरघा और कपड़ा नीति लाएगी। आज गुवाहाटी के श्रीमंत शंकरदेव कलाक्षेत्र में आयोजित राष्ट्रीय हथकरघा दिवस के समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने उक्त बातें कही। उन्होंने कहा कि राज्य के पर्यटन खंड के साथ ही असमिया लोगों की दक्षता ने कपड़ा बाजार को बड़ा रूप दिया है।

सोनोवाल ने कहा कि हथकरघा खंड विशेष रूप से एडी और मूगा को लेकर असम का एक विशेष स्थान है। दूसरी ओर समारोह में उपस्थित केंद्रीय कपड़ा राज्यमंत्री अजय टामटा ने कहा कि असम के बुनकरों की समस्याओं पर मंत्रालय गंभीर है। उन्होंने कहा कि कृृषि क्षेत्र के बाद कपड़ा क्षेत्र ही ऐसा है जिसमें देश के अधिकांश लोग जुड़े हुए हैं। उन्होंने कहा कि देश के 65 फीसदी बुनकर असम में है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की मुद्रा लोन योजना के जरिए देश के लगभग 26,527 बुनकर लाभांवित हुए हैं।

असम में चल रही परियोजनाओं के अलावा और पांच हजार करोड़ रुपए की योजनाएं शुरू की जाएंगी। असम में एडी और मूगा के विकास के लिए 600 करोड़ रुपए की राशि जारी की गई है। वहीं कार्यक्रम में उपस्थित राज्य सरकार के हथकरघा एवं वन विभाग के मंत्री रंजीत दश्र ने कहा कि राज्य में 108 प्रशिक्षण केंद्रों और 98 विस्तारित केंद्रों के जरिए बुनकरों का कौशल विकास किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि सुवालकुची स्थित हथकरघा उद्योग के लिए 20 करोड़ रुपए बजट में रखा गया है।